Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष
We always believe We always believe प्रभु परशुराम ने यह पृथ्वी जीत कर ब्राह्मणों को दिया था। उस समय पृथ्वी पर रहने वाले समस्त उत्तर भारतीय ब्राह्मण संयुक्त रुप से गौड़ कहलाते थे। परंतु लंका विजय के बाद, इन ब्राह्मणों में वर्ग या समूह स्थापित होने प्रारंभ हो गए। भगवान परशुराम त्रेता युग (रामायण काल) में एक ब्राह्मण ऋषि के यहाँ जन्मे थे। जो विष्णु के छठा अवतार हैं
We always believe
God is Above All Things - जानिए ब्राह्मण कर्तव्य दिशा निर्देश
We always believe
God is Above All Things - ब्राह्मणोत्पत्ति
प्रभु परशुराम ने यह पृथ्वी जीत कर ब्राह्मणों को दिया था। उस समय पृथ्वी पर रहने वाले समस्त उत्तर भारतीय ब्राह्मण संयुक्त रुप से गौड़ कहलाते थे। परंतु लंका विजय के बाद, इन ब्राह्मणों में वर्ग या समूह स्थापित होने प्रारंभ हो गए।
.
भगवान परशुराम त्रेता युग (रामायण काल) में एक ब्राह्मण ऋषि के यहाँ जन्मे थे। जो विष्णु के छठा अवतार हैं
ब्राह्मण भगवान परशुराम और क्षत्रिय भगवान परशुराम

गायत्री दीक्षा लेकर कोई भी ब्रह्माण बन सकता है

ब्राह्मण जाति को हिन्दू धर्म में शीर्ष पर रखा गया है। लेकिन ब्राह्मणो के बारे में आज भी बहुत ही कम लोग जानते है, कि ब्राह्मण कितने प्रकार के होते है। स्मृति-पुराणों में ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन है:- मात्र, ब्राह्मण, श्रोत्रिय, अनुचान, भ्रूण, ऋषिकल्प, ऋषि और मुनि। ब्राह्मण को धर्मज्ञ विप्र और द्विज भी कहा जाता है। 

pandit
ब्राह्मण के कर्तव्य

छः कर्तव्य

सबसे पहले ब्राह्मण शब्द का प्रयोग अथर्वेद के उच्चारण कर्ता ऋषियों के लिए किया गया था। फिर प्रत्येक वेद को समझने के लिए ग्रन्थ लिखे गए उन्हें भी ब्रह्मण साहित्य कहा गया। ब्राह्मण का तब किसी जाति या समाज से नहीं था।
===================

वेद पड़ना पड़ना , यज्ञ करना करना , दान देना और लेना

ब्राह्मण वंशावली

ब्राह्मण कितने प्रकार

यूं तो प्रभु परशुराम ने प्रभु श्रीराम के पृथ्वी पर आगमन से पूर्व ही बार-बार यह पृथ्वी जीत कर ब्राह्मणों को शासन स्वरूप देना प्रारंभ कर दिया था। उस समय पृथ्वी पर रहने वाले समस्त उत्तर भारतीय ब्राह्मण संयुक्त रुप से गौड़ कहलाते थे। परंतु लंका विजय के बाद, इन ब्राह्मणों में वर्ग या समूह स्थापित होने प्रारंभ हो गए। 

ब्राह्मणों की श्रेणियां

ब्राह्मणों में विभिन्न उपनाम..

ब्राह्मणों को सम्पूर्ण भारतवर्ष में विभिन्न उपनामों से जाना जाता है –> दीक्षित, शुक्ल, द्विवेदी त्रिवेदी, खाण्डल विप्र, ऋषीश्वर, वशिष्ठ, कौशिक, भार्गव , भारद्वाज, सनाढ्य ब्राह्मण, भूमिहार ब्राह्मण, राय ब्राह्मण, त्यागी , बैरागी वैष्णव ब्राह्मण, बाजपेयी,  श्रीखण्ड,भातखण्डे अनाविल, देशस्थ, कोंकणस्थ , दैवदन्या, देवरुखे और करहाड़े, निषाद अयंगर, हेगडे,  नम्बूदरीपाद, अयंगर एवं अय्यर, नियोगी,  राव, दास, मिश्र, शाकद्वीपीय (मग), जोशी, आदि।

allpandit

ब्राह्मणों में कई जातियां है।इससे मूल कार्य व स्थान का पता चलता है

सम्यग व्यवहार सिद्धि के लिए प्रतिपादित की। अर्थात् जिस वंश में जो आदि पुरुष परम कीर्ति वाला प्रतापी, सिद्ध पुरुष, तपस्वी ऋषि, मनीषी, कुलप्रवर्त्तक आचार्य हुआ हो उसके नाम से ही गोत्र का नामकरण हो गया, जैसे- मनुष्यों को अपनी पहचान बताने के लिए अपने नाम के साथ पिता, पितामह प्रतितामह आदि का नाम बताकर पूर्ण परिचय देता है। इस कारण आदि काल से आज तक ब्राह्मण जाति के लोग अपने आपको वशिष्ठ, भारद्वाज, भार्गव , गौतम, अत्रि कश्यपादि की सन्तान बताकर गौरव का अनुभव करते हैं। यहाँ यह भी लिख देना उचित है कि प्रत्येक गोत्र के साथ प्रतिष्ठा के नाम होते थे। जो जिस ग्राम व स्थान में बसे व जिसकी जैसी योग्यता होती थी उसी प्रतिष्ठा से उसे पुकारा जाता था। जैसे- चतुर्वेदी, द्विवेदी, त्रिवेदी, पाठक, शुक्ल, पांडे, दिक्षित, उपाध्याय, वाजपेयी एवं अग्निहोत्री आदि। इनमें वेद पढ़ने से द्विवेदी, त्रिवेदी आदि कहाये, अध्यापक होने से उपाध्याय पाठक और भट्टाचार्य कहाये। यज्ञादि कर्मानुष्ठान करने से वाजपेयी, अग्निहोत्री आरि दिक्षित कहाये श्रोत्रीय और स्मृति कर्मानुष्ठान करने से मिश्र. पुरोहित और शुद्ध निर्मल गुण-कर्मों के अनुष्ठान से शुक्ल कहाये।

ब्राह्मणों का इतिहास - स्थान , शासन, गोत्र , पदवी

आर्यावर्त्त के बीच पूर्वकाल में महाराजा जनमेजय एक बड़े चक्रवर्ती राजा का गुप्त दान भेद खुला कि जो जो ग्राम जिस जिस को मिला वह उसी में बसा और जिस ग्राम या नगर में बसा उसी पर उसका शासन हुआ, इन शासनों को कोई और अवटंक भी कहते हैं । बंगदेश से लेकर अमरनाथ पर्यन्त गौड़ देश की स्थिति है | यह श्रावस्तीपुरी गौड़ देश में इस समय मी सरयू नदी के उत्तर गोंडा नगर के समीप वर्तमान हैं, जिस देश की सीमा पूर्व में गंगा और गण्डकी का सम है, पश्चिम और दक्षिण दिशा में सरयू है, उत्तर में हिमालय है इसके मध्य की भूमि का नाम गौड़ देश है गण्डकी नदी की पश्चिमी भूमि गौड़ देश कहलाती है। सर्व प्रथम गोत्र का नाम अर्थात् जिस ऋषि की सन्तान हो उस ऋषि का नाम गोत्र हमारे गोत्र कहलाये जैसे- वशिष्ठ, भार्गव , भारद्वाज, गौतम, अत्रि कश्यपादि तथा शासन शासन को अवटंक या अल्ल भी कहते हैं जो शासन या अल्ल ब्राह्मणों के शादी विवाह मैं प्रयोग करते हैं जिससे किसी ऋषि की संतान का विवाह संयोग आपस में भाई बहन के रूप नहीं बने | पदवी जैसे- चतुर्वेदी, द्विवेदी, त्रिवेदी, पाठक, शुक्ल, पांडे, दिक्षित, उपाध्याय, वाजपेयी एवं अग्निहोत्री आदि।  Read more

shastra

छः शास्त्रों का बनना

“न्याय शास्त्र” गौतम ऋषि ने बताया. “वैशेषिकशास्त्र” कणाद मुनि ने रचा, “सांख्य शास्त्र” को कपिल आचार्य ने लिखा, “योग शास्त्र” का पातञ्जलि ने निर्माण किया, “मीमांसा शास्त्र” जैमिनी ने और “वेदान्त शास्त्र” को व्यास ने बनाया |

सूर्य सिद्धान्त

इसी प्रकार पृथ्वी और सूर्य चन्द्रमा तथा नक्षत्रों के घूमने और उदय अस्त पर वर्षों तक ध्यान दिया और यहाँ तक हद्द करदी कि दृथ्वी मुय चन्द्रमा की परिधियों को ठीक ठीक नाप लिया और उनके चक्रों का हिसाब समझ कर सूर्य चन्द्रमा के ग्रहण लगने का गुरु ऐसा सच्चा बना लिया था जो आज तक असत्य नहीं हुआ। इस समय के बने शास्त्र का नाम “सूर्य सिद्धान्त” हैं । जब ऋग्वेद और अथर्ववेद के मंत्रों पर विचार किया तब अग्नि विद्या और बिजली की विद्या को भी जान लिया था । फिर समुद्र पर दौड़ने वाली सवारी तार भृगर्भादि और आ काश में उड़ने वाले अनेक विमान भी बना लिये थे। जब क्षत्रियों का धनुविधा सिखाने की आवश्यकता हुई तब शीतल बाण, अग्निवाण, और लखसंघारीबाण बनाये गये थे। इस समय के ऋषि मनु स्वप्टा तथा विश्वकर्मा आदि हुये हैं।

ब्राह्मण एक ही जाति

सूर्य सिद्धान्त —-> इस समय में भी सब ब्राह्मण एक ही जाति के थे। अब यहाँ से बहुत काल पश्चात् ब्राह्मणों के दो भेद हो गये ओ विध्याचल के उत्तर और दक्षिण देश में गौड़ और द्राविड़ नाम से पुकारे जाने लगे अर्थात उत्तर देशवासी गौड़ ब्राह्मण और दक्षिण देश वासी द्राविड़ ब्राह्मण कहे जाते थे फिर एक एक भेद के पांच पांच भेद हुए अर्थात पञ्च गौड़ और पञ्च द्राविड़ ऐसे दश प्रकार के ब्राह्मण होगये | सारस्वत १ कान्य कुब्ज २ गौड़ ३ उत्कल ४ और मैथिल ५ ये पंच गौड़ कहलाते हैं और विध्याचल पर्वत के उत्तर में बसते हैं।  कर्णाटक   १  तैलङ्ग   २  द्राविड़   ३  महाराष्ट्रियन   ४  और गुर्जर  ५ ये पंच द्राविड़ कहलाते हैं और विध्याचल के दक्षिण देश में बसते हैं | इस प्रकार पंचगौड़ और पंच द्राविड़ मिलकरदश ब्राह्मण कहलाते हैं।

Beliefs

पृथ्वी के “प्रथम शासक” आदि गौड़ या गौड़ ब्राह्मण।

आदि गौड़ (सृष्टि के प्रारंभ से गौड़ या आदि काल से गौड़ ) या गौड़ ब्राह्मण “पृथ्वी के प्रथम शासक ब्राह्मण” उत्तर भारतीय ब्राह्मणों की पांच गौड़ब्राह्मणों की मुख्य शाखा का प्रमुख भाग है, गौड़ ब्राह्मण, आदि गौड़ तथा श्री आदि गौड़ एक ही ब्राह्मण वंश हैl .. सभी तथ्य नीचे दिए लिंक पर ..

पंच गौड़ों में कहै जो सारस्वत, कान्य कुब्ज, उत्कल और मैथिल है ये भी गौड़ ही हैं, परन्तु मिन्न भिन्न देशों में बसने से इनके नाम बदल गये हैं, जैसे सरस्वती नदी के किनारे के देशों में बसने से “सारस्वत” कन्नौज के राज्य में बसने से “कान्यकुब्ज” उत्कल देश में बसने से “उत्कल” मिथिलापुर से बसने मे मैथिल नाम पड़ा. परन्तु जो गौड़ अयाचक धर्म का पालन करते हुए अपने प्राचीन गौड़ देश में ही निवास करते रहे वे अब तक भी आदि गौड़ कहलाते हैं।

untachble

ब्राह्मणोत्पत्ति मार्तण्डया के अनुसार पृथ्वी के प्रथम ब्राह्मण (गौड़ ब्राह्मण) हैं जो छुआछूत के दोष को नहींमानते

eatingfood

मनुष्य मात्र के हाथ का भोजन ग्रहण करने में कोई बुराई नहीं मनाता क्योंकि प्रत्येक मनुष्य में इश्वर का वास् होता है गौड़ ब्राह्मणों का यह गुण,

ponga-pandit
अन्य का षड़यंत्र

दूसरों के द्वारा पृथ्वी के ‘आधुनिक ब्राह्मण’ कहा गया वेदों में भी छुआछूत को अपराध कहागया है

god-vans

गौड़ वंश आदि काल से छुआछूत का विरोधी रहा है इसप्रकार आदि गौड़ वंश समाज में छुआछूत को एक धार्मिक षड़यंत्र कहता आया है

Listen to our

भक्ति संगीत आराधना पूजा पाठ

  • Shiv Shakti -
Update Required To play the media you will need to either update your browser to a recent version or update your Flash plugin.
  • 1 Jan 2022- A New Update - Om Tryambakam Yajamahe | Shankar Mahadevan
Update Required To play the media you will need to either update your browser to a recent version or update your Flash plugin.

Our Services

सामाजिक गतिविधिया

सनातन धर्म सभा
शादी समारोह
सम्मान समारोह
कर्तव्य जागरूक
शिक्षा जागरुकता
पूजा पाठ
Brahmins-samaj1

Events

ब्राह्मण, हिन्दू वर्ण व्‍यवस्‍था का एक वर्ण है। यास्क मुनि के निरुक्त के अनुसार, ब्रह्म जानाति ब्राह्मणः अर्थात् ब्राह्मण वह है जो ब्रह्म (अंतिम सत्य, ईश्वर या परम ज्ञान) को जानता है। अतः ब्राह्मण का अर्थ है “ईश्वर का ज्ञाता”।

यद्यपि भारतीय जनसंख्या में ब्राह्मणों का दस प्रतिशत है तथापि धर्म, संस्कृति, कला तथा शिक्षा के क्षेत्र में देश कि आजादी और भारत राजनीति में महान योगदान रहता आया है। उत्तर प्रदेश=14%, बिहार=7%, उत्तराखंड=25%, हिमाचल प्रदेश=18%, मध्यप्रदेश=6% , राजस्थान=9.5%, हरियाणा=10%, पंजाब=7%, जम्मू कश्मीर=12%, झारखंड= 5%, दिल्ली=15% और देश कि लगभग=10% है ।

Success

Stories

मुनि : जो व्यक्ति निवृत्ति मार्ग में स्थित, संपूर्ण तत्वों का ज्ञाता, ध्याननिष्ठ, जितेन्द्रिय तथा सिद्ध है ऐसे ब्राह्मण को ‘मुनि’ कहते हैं।

स्मृति-पुराण

ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन

ऋषि : ऐसे व्यक्ति तो सम्यक आहार, विहार आदि करते हुए ब्रह्मचारी रहकर संशय और संदेह से परे हैं और जिसके श्राप और अनुग्रह फलित होने लगे हैं उस सत्यप्रतिज्ञ और समर्थ व्यक्ति को ऋषि कहा गया है।

स्मृति-पुराण

ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन

ऋषिकल्प : जो कोई भी व्यक्ति सभी वेदों, स्मृतियों और लौकिक विषयों का ज्ञान प्राप्त कर मन और इंद्रियों को वश में करके आश्रम में सदा ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए निवास करता है उसे ऋषिकल्प कहा जाता है।

स्मृति-पुराण

ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन

God Brahman Team

कार्यकारिणी सदस्य

From the blog

Latest News

24 Jul

Shivling Puja Vidhi: क्यों पिया जाता है शिवलिंग पर चढ़ाया हुआ जल, शिव महापुराण में मिलता है उल्लेख

हिंदू धर्म में शिवलिंग का विशेष महत्व है। इसकी उत्पत्ति को लेकर पौराणिक…

24 Jul

Sawan Second Somvar 2024: अब सावन के दूसरे सोमवार का इंतजार, विधि-विधान से करें शिवलिंग की पूजा

भगवान शिव का प्रिय महीना 22 जुलाई से शुरू हो चुका है। यह…

24 Jul

Aaj Ka Rashifal 24 July 2024: इन राशि वालों को प्रमोशन मिलने के योग, वैवाहिक जीवन से दूर होगी कलह, पढ़ें आज का राशिफल

Aaj Ka Rashifal 24 July 2024: मेष राशि के जातक अपने संपर्कों का…

24 Jul

Aaj Ka Panchang: आज का पंचांग, 24 जुलाई 2024, बुधवार

Aaj Ka Panchang: आज संकट चतुर्थी का व्रत किया जाएगा। चतुर्थी तिथि किसी…

भारत

  • NEET-UG: 4 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स का दोबारा जारी होगा रिजल्ट, फिजिक्स के पेपर में वापस लिए जाएंगे ग्रेस मार्क - Aaj Tak

    NEET-UG: 4 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स का दोबारा जारी होगा रिजल्ट, फिजिक्स के पेपर में वापस लिए जाएंगे ग्रेस मार्क  Aaj TakNEET UG 2024: घटे टॉपर, बदला नीट यूजी का रिजल्ट, कल तक जारी होगा नया स्कोरकार्ड  ABP न्यूज़सिक्योरिटी को बुलाओ... जब भरी कोर्ट में भड़के CJI डीवाई चंद्रचूड़, जवाब में बाइबिल की लाइन पढ़ने लगे वकील  NDTV India

  • J-K: कुपवाड़ा में रात से जारी मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर, सेना का एक जवान भी घायल - Aaj Tak

    J-K: कुपवाड़ा में रात से जारी मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर, सेना का एक जवान भी घायल  Aaj Takजम्मू-कश्मीर के पुंछ में 1 जवान शहीद: कुपवाड़ा में मुठभेड़ जारी, सुरक्षाबलों ने 3 आतंकियों को घेरा  Dainik BhaskarJammu-Kashmir: कुपवाड़ा में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक दहशतगर्द ढेर; सर्च ऑपरेशन जारी  अमर उजालाकश्मीर में अब दुश्मन देख ले इंडियन आर्मी का इंतकाम, कुपवाड़ा में सुबह-सुबह 2 आतंकियों को मार गिराया  News18 हिंदी

  • बजट पर इंडिया 'ब्लॉक' में दिखी दरार! ममता का टिकट बुक, अखिलेश पर सस्पेंस - News18 हिंदी

    बजट पर इंडिया 'ब्लॉक' में दिखी दरार! ममता का टिकट बुक, अखिलेश पर सस्पेंस  News18 हिंदीबजट के खिलाफ इंडिया ब्लॉक के सांसद आज करेंगे प्रदर्शन, नीति आयोग की बैठक का करेंगे बहिष्कार  Aaj TakUP Politics: BJP विधायक बोले- 'सपने को पीएम मोदी तो क्या भगवान भी पूरा नहीं कर सकते', जानें  ABP न्यूज़LIVE: इंडिया ब्लॉक के सांसद बजट के खिलाफ संसद में करेंगे प्रदर्शन, बताया- भेदभाव पूर्ण  JansattaBudget 2024 : आज संसद परिसर में बजट के खिलाफ विपक्ष का प्रदर्शन; राज्यों की अनदेखी का आरोप  अमर उजाला

  • Delhi Rains: दिल्ली के इन इलाकों में हुई बारिश, चिपचिपी गर्मी से राहत, IMD का येलो अलर्ट - ABP न्यूज़

    Delhi Rains: दिल्ली के इन इलाकों में हुई बारिश, चिपचिपी गर्मी से राहत, IMD का येलो अलर्ट  ABP न्यूज़Delhi Rain: दिल्ली-NCR में झमाझम बारिश, सड़कों पर भरा पानी, गाड़ियों की थमी रफ्तार, ट्रैफिक जाम  Aaj TakIMD Weather Forecast Today, आज का मौसम 24 जुलाई LIVE: दिल्ली-नोएडा में झमाझम बारिश, यूपी को लेकर भी IMD ने जारी किया अलर्ट  JansattaDelhi Rain: दिल्ली-नोएडा में झमाझम बारिश, उमस भरी गर्मी हुई छूमंतर, सुबह-सुबह मौसम ने खुश कर दिया!  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)

  • Income Tax Saving: सालाना 10 लाख कमाई... फिर भी 1 रुपया नहीं लगेगा इनकम टैक्स, जानिए New Tax Slab से अब कितना बचेगा पैसा! - Aaj Tak

    Income Tax Saving: सालाना 10 लाख कमाई... फिर भी 1 रुपया नहीं लगेगा इनकम टैक्स, जानिए New Tax Slab से अब कितना बचेगा पैसा!  Aaj Takबजट में बिहार और आंध्र प्रदेश का ख़ास ख़्याल क्यों रखा गया?  BBC News हिंदीअब मकान बेचने से नहीं होगा ज्यादा फायदा, निर्मला सीतारमण ने चुपचाप दे दिया झटका, जानिए पूरी बात  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)

  • Weather Update : राजस्थान में यहां जमकर बरसे मेघ, अगले पांच दिन बारिश का अलर्ट - Patrika News

    Weather Update : राजस्थान में यहां जमकर बरसे मेघ, अगले पांच दिन बारिश का अलर्ट  Patrika Newsपूरे राजस्थान में झमाझम बारिश की बड़ी चेतावनी, बस इन 2 जिलों से रूठा मानसून, बारिश के कोई आसार नहीं  Patrika NewsRajasthan Weather Update: जयपुर में अगले तीन घंटों में बारिश का ऑरेंज अलर्ट, प्रदेश में फिर लौटा मानसून  अमर उजालाRajasthan LIVE News: 30 जिलों में बारिश को लेकर अलर्ट, CBI ने पेपर लीक मामले में मांगा रिकॉर्ड  News18 हिंदी3 जिलों में आज भारी बारिश की चेतावनी, तापमान गिरा: जयपुर में सुबह हुई रिमझिम बरसात, राजस्थान में अब भी मानस...  Dainik Bhaskar

  • डेडलाइन बीती, वापस एकेडमी नहीं पहुंचीं पूजा खेडकर, पेरेंट्स के तलाक के दावे की भी जांच शुरू - Aaj Tak

    डेडलाइन बीती, वापस एकेडमी नहीं पहुंचीं पूजा खेडकर, पेरेंट्स के तलाक के दावे की भी जांच शुरू  Aaj Takपूजा खेडकर केस- केंद्र ने पेरेंट्स का मैरिटल स्टेटस मांगा: ट्रेनी IAS पर आरोप- माता-पिता के तलाक का दावा कर...  Dainik Bhaskarमां-पिता, बुआ-कजिन... महाराष्ट्र की ट्रेनी IAS ऑफिसर पूजा खेडकर के इन रिश्तेदारों के नाम पर रजिस्टर्ड हैं 8 कंपनियां  Jansatta

  • Budget 2024: कैपिटल गेन टैक्स में बढ़त से कोई नुकसान नहीं, लेकिन अधिकांश सेक्टरों में वैल्यूएशन महंगा : 3P के प्रशांत जैन - मनी कंट्रोल

    Budget 2024: कैपिटल गेन टैक्स में बढ़त से कोई नुकसान नहीं, लेकिन अधिकांश सेक्टरों में वैल्यूएशन महंगा : 3P के प्रशांत जैन  मनी कंट्रोलStock Market After Budget: कल गिरते-गिरते संभला था शेयर बाजार, जानिए क्या है कारण... आएगी धुंआधार तेजी?  Aaj TakStock Market News: बजट के अगले दिन Sensex-Nifty फिसले, लेकिन इस कारण निवेशकों ने कमाए ₹92 हजार करोड़  मनी कंट्रोलStocks To watch: बुधवार को इन शेयरों में दिख सकता है एक्शन, बाजार बंद होने के बाद आए बड़े अपडेट  CNBCTV18 हिंदीशेयर बाजार के निवेशकों को झटका, LTCG-STCG से सरकार वसूलेगी ज्यादा टैक्स, समझें 11 महीने और 13 महीने का खेल  NDTV Rajasthan

  • वित्त मंत्री के बजट पर गदगद PM मोदी : 84 मिनट के भाषण में 78 बार थपथपाई मेज - NDTV India

    वित्त मंत्री के बजट पर गदगद PM मोदी : 84 मिनट के भाषण में 78 बार थपथपाई मेज  NDTV India9 बज गए: बजट को लेकर संसद में हो सकता है भारी हंगामा, विपक्ष ने खोल दिया मोर्चा  Aaj TakPM Modi on Budget: पीएम मोदी बोले- युवाओं-मध्यम वर्ग को मिलेगी नई ताकत, जानिए बजट पर और क्या-क्या बोले  अमर उजालानयी ऊर्जा, सुनहरे भविष्य, नये अवसर लेकर आने वाला बजट विकसित भारत की ठोस नींव रखेगा: प्रधानमंत्री  ThePrint Hindiबजट पर सरकार-विपक्ष का रिएक्शन: PM बोले- विकसित भारत की नींव रखेगा बजट, राहुल ने कहा- इंटर्नशिप स्कीम हमारी...  Dainik Bhaskar

  • Budget 2024 पर आ गया Chirag Paswan का रिएक्शन, बोले- विपक्ष के कारण नहीं मिल पाया स्पेशल स्टेटस.. - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

    Budget 2024 पर आ गया Chirag Paswan का रिएक्शन, बोले- विपक्ष के कारण नहीं मिल पाया स्पेशल स्टेटस..  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)Budget 2024: बजट के बाद अचानक निर्मला सीतारमण से मिलने पहुंचे NDA नेता, बिहार के लिए फिर दोहराई ये म..  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)एकरे त रहल ह जरूरत...बिहार के विशेष राज्य के ऑर्केस्ट्रा में 60 हजार करोड़ के फंड का वंशीवादन  ABP न्यूज़बिहार को मिले विशेष पैकेज को क्यों झुनझुना बता रहे राबड़ी-तेजस्वी? क्या है हकीकत  Aaj Tak

दुनिया