Call : +917060214644 info@gaurbrahmansamaj.com
Call: Puja Path Shadi Anya Dharmik Kary
We always believe We always believe प्रभु परशुराम ने यह पृथ्वी जीत कर ब्राह्मणों को दिया था। उस समय पृथ्वी पर रहने वाले समस्त उत्तर भारतीय ब्राह्मण संयुक्त रुप से गौड़ कहलाते थे। परंतु लंका विजय के बाद, इन ब्राह्मणों में वर्ग या समूह स्थापित होने प्रारंभ हो गए। भगवान परशुराम त्रेता युग (रामायण काल) में एक ब्राह्मण ऋषि के यहाँ जन्मे थे। जो विष्णु के छठा अवतार हैं
We always believe
God is Above All Things - जानिए ब्राह्मण कर्तव्य दिशा निर्देश
We always believe
God is Above All Things - ब्राह्मणोत्पत्ति
प्रभु परशुराम ने यह पृथ्वी जीत कर ब्राह्मणों को दिया था। उस समय पृथ्वी पर रहने वाले समस्त उत्तर भारतीय ब्राह्मण संयुक्त रुप से गौड़ कहलाते थे। परंतु लंका विजय के बाद, इन ब्राह्मणों में वर्ग या समूह स्थापित होने प्रारंभ हो गए।
.
भगवान परशुराम त्रेता युग (रामायण काल) में एक ब्राह्मण ऋषि के यहाँ जन्मे थे। जो विष्णु के छठा अवतार हैं
ब्राह्मण भगवान परशुराम और क्षत्रिय भगवान परशुराम

गायत्री दीक्षा लेकर कोई भी ब्रह्माण बन सकता है

ब्राह्मण जाति को हिन्दू धर्म में शीर्ष पर रखा गया है। लेकिन ब्राह्मणो के बारे में आज भी बहुत ही कम लोग जानते है, कि ब्राह्मण कितने प्रकार के होते है। स्मृति-पुराणों में ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन है:- मात्र, ब्राह्मण, श्रोत्रिय, अनुचान, भ्रूण, ऋषिकल्प, ऋषि और मुनि। ब्राह्मण को धर्मज्ञ विप्र और द्विज भी कहा जाता है। 

pandit
ब्राह्मण के कर्तव्य

छः कर्तव्य

सबसे पहले ब्राह्मण शब्द का प्रयोग अथर्वेद के उच्चारण कर्ता ऋषियों के लिए किया गया था। फिर प्रत्येक वेद को समझने के लिए ग्रन्थ लिखे गए उन्हें भी ब्रह्मण साहित्य कहा गया। ब्राह्मण का तब किसी जाति या समाज से नहीं था।
===================

वेद पड़ना पड़ना , यज्ञ करना करना , दान देना और लेना

ब्राह्मण वंशावली

ब्राह्मण कितने प्रकार

यूं तो प्रभु परशुराम ने प्रभु श्रीराम के पृथ्वी पर आगमन से पूर्व ही बार-बार यह पृथ्वी जीत कर ब्राह्मणों को शासन स्वरूप देना प्रारंभ कर दिया था। उस समय पृथ्वी पर रहने वाले समस्त उत्तर भारतीय ब्राह्मण संयुक्त रुप से गौड़ कहलाते थे। परंतु लंका विजय के बाद, इन ब्राह्मणों में वर्ग या समूह स्थापित होने प्रारंभ हो गए। 

ब्राह्मणों की श्रेणियां

ब्राह्मणों में विभिन्न उपनाम..

ब्राह्मणों को सम्पूर्ण भारतवर्ष में विभिन्न उपनामों से जाना जाता है –> दीक्षित, शुक्ल, द्विवेदी त्रिवेदी, खाण्डल विप्र, ऋषीश्वर, वशिष्ठ, कौशिक, भार्गव , भारद्वाज, सनाढ्य ब्राह्मण, भूमिहार ब्राह्मण, राय ब्राह्मण, त्यागी , बैरागी वैष्णव ब्राह्मण, बाजपेयी,  श्रीखण्ड,भातखण्डे अनाविल, देशस्थ, कोंकणस्थ , दैवदन्या, देवरुखे और करहाड़े, निषाद अयंगर, हेगडे,  नम्बूदरीपाद, अयंगर एवं अय्यर, नियोगी,  राव, दास, मिश्र, शाकद्वीपीय (मग), जोशी, आदि।

allpandit

ब्राह्मणों में कई जातियां है।इससे मूल कार्य व स्थान का पता चलता है

सम्यग व्यवहार सिद्धि के लिए प्रतिपादित की। अर्थात् जिस वंश में जो आदि पुरुष परम कीर्ति वाला प्रतापी, सिद्ध पुरुष, तपस्वी ऋषि, मनीषी, कुलप्रवर्त्तक आचार्य हुआ हो उसके नाम से ही गोत्र का नामकरण हो गया, जैसे- मनुष्यों को अपनी पहचान बताने के लिए अपने नाम के साथ पिता, पितामह प्रतितामह आदि का नाम बताकर पूर्ण परिचय देता है। इस कारण आदि काल से आज तक ब्राह्मण जाति के लोग अपने आपको वशिष्ठ, भारद्वाज, भार्गव , गौतम, अत्रि कश्यपादि की सन्तान बताकर गौरव का अनुभव करते हैं। यहाँ यह भी लिख देना उचित है कि प्रत्येक गोत्र के साथ प्रतिष्ठा के नाम होते थे। जो जिस ग्राम व स्थान में बसे व जिसकी जैसी योग्यता होती थी उसी प्रतिष्ठा से उसे पुकारा जाता था। जैसे- चतुर्वेदी, द्विवेदी, त्रिवेदी, पाठक, शुक्ल, पांडे, दिक्षित, उपाध्याय, वाजपेयी एवं अग्निहोत्री आदि। इनमें वेद पढ़ने से द्विवेदी, त्रिवेदी आदि कहाये, अध्यापक होने से उपाध्याय पाठक और भट्टाचार्य कहाये। यज्ञादि कर्मानुष्ठान करने से वाजपेयी, अग्निहोत्री आरि दिक्षित कहाये श्रोत्रीय और स्मृति कर्मानुष्ठान करने से मिश्र. पुरोहित और शुद्ध निर्मल गुण-कर्मों के अनुष्ठान से शुक्ल कहाये।

ब्राह्मणों का इतिहास - स्थान , शासन, गोत्र , पदवी

आर्यावर्त्त के बीच पूर्वकाल में महाराजा जनमेजय एक बड़े चक्रवर्ती राजा का गुप्त दान भेद खुला कि जो जो ग्राम जिस जिस को मिला वह उसी में बसा और जिस ग्राम या नगर में बसा उसी पर उसका शासन हुआ, इन शासनों को कोई और अवटंक भी कहते हैं । बंगदेश से लेकर अमरनाथ पर्यन्त गौड़ देश की स्थिति है | यह श्रावस्तीपुरी गौड़ देश में इस समय मी सरयू नदी के उत्तर गोंडा नगर के समीप वर्तमान हैं, जिस देश की सीमा पूर्व में गंगा और गण्डकी का सम है, पश्चिम और दक्षिण दिशा में सरयू है, उत्तर में हिमालय है इसके मध्य की भूमि का नाम गौड़ देश है गण्डकी नदी की पश्चिमी भूमि गौड़ देश कहलाती है। सर्व प्रथम गोत्र का नाम अर्थात् जिस ऋषि की सन्तान हो उस ऋषि का नाम गोत्र हमारे गोत्र कहलाये जैसे- वशिष्ठ, भार्गव , भारद्वाज, गौतम, अत्रि कश्यपादि तथा शासन शासन को अवटंक या अल्ल भी कहते हैं जो शासन या अल्ल ब्राह्मणों के शादी विवाह मैं प्रयोग करते हैं जिससे किसी ऋषि की संतान का विवाह संयोग आपस में भाई बहन के रूप नहीं बने | पदवी जैसे- चतुर्वेदी, द्विवेदी, त्रिवेदी, पाठक, शुक्ल, पांडे, दिक्षित, उपाध्याय, वाजपेयी एवं अग्निहोत्री आदि।  Read more

shastra

छः शास्त्रों का बनना

“न्याय शास्त्र” गौतम ऋषि ने बताया. “वैशेषिकशास्त्र” कणाद मुनि ने रचा, “सांख्य शास्त्र” को कपिल आचार्य ने लिखा, “योग शास्त्र” का पातञ्जलि ने निर्माण किया, “मीमांसा शास्त्र” जैमिनी ने और “वेदान्त शास्त्र” को व्यास ने बनाया |

सूर्य सिद्धान्त

इसी प्रकार पृथ्वी और सूर्य चन्द्रमा तथा नक्षत्रों के घूमने और उदय अस्त पर वर्षों तक ध्यान दिया और यहाँ तक हद्द करदी कि दृथ्वी मुय चन्द्रमा की परिधियों को ठीक ठीक नाप लिया और उनके चक्रों का हिसाब समझ कर सूर्य चन्द्रमा के ग्रहण लगने का गुरु ऐसा सच्चा बना लिया था जो आज तक असत्य नहीं हुआ। इस समय के बने शास्त्र का नाम “सूर्य सिद्धान्त” हैं । जब ऋग्वेद और अथर्ववेद के मंत्रों पर विचार किया तब अग्नि विद्या और बिजली की विद्या को भी जान लिया था । फिर समुद्र पर दौड़ने वाली सवारी तार भृगर्भादि और आ काश में उड़ने वाले अनेक विमान भी बना लिये थे। जब क्षत्रियों का धनुविधा सिखाने की आवश्यकता हुई तब शीतल बाण, अग्निवाण, और लखसंघारीबाण बनाये गये थे। इस समय के ऋषि मनु स्वप्टा तथा विश्वकर्मा आदि हुये हैं।

ब्राह्मण एक ही जाति

सूर्य सिद्धान्त —-> इस समय में भी सब ब्राह्मण एक ही जाति के थे। अब यहाँ से बहुत काल पश्चात् ब्राह्मणों के दो भेद हो गये ओ विध्याचल के उत्तर और दक्षिण देश में गौड़ और द्राविड़ नाम से पुकारे जाने लगे अर्थात उत्तर देशवासी गौड़ ब्राह्मण और दक्षिण देश वासी द्राविड़ ब्राह्मण कहे जाते थे फिर एक एक भेद के पांच पांच भेद हुए अर्थात पञ्च गौड़ और पञ्च द्राविड़ ऐसे दश प्रकार के ब्राह्मण होगये | सारस्वत १ कान्य कुब्ज २ गौड़ ३ उत्कल ४ और मैथिल ५ ये पंच गौड़ कहलाते हैं और विध्याचल पर्वत के उत्तर में बसते हैं।  कर्णाटक   १  तैलङ्ग   २  द्राविड़   ३  महाराष्ट्रियन   ४  और गुर्जर  ५ ये पंच द्राविड़ कहलाते हैं और विध्याचल के दक्षिण देश में बसते हैं | इस प्रकार पंचगौड़ और पंच द्राविड़ मिलकरदश ब्राह्मण कहलाते हैं।

Beliefs

पृथ्वी के “प्रथम शासक” आदि गौड़ या गौड़ ब्राह्मण।

आदि गौड़ (सृष्टि के प्रारंभ से गौड़ या आदि काल से गौड़ ) या गौड़ ब्राह्मण “पृथ्वी के प्रथम शासक ब्राह्मण” उत्तर भारतीय ब्राह्मणों की पांच गौड़ब्राह्मणों की मुख्य शाखा का प्रमुख भाग है, गौड़ ब्राह्मण, आदि गौड़ तथा श्री आदि गौड़ एक ही ब्राह्मण वंश हैl .. सभी तथ्य नीचे दिए लिंक पर ..

पंच गौड़ों में कहै जो सारस्वत, कान्य कुब्ज, उत्कल और मैथिल है ये भी गौड़ ही हैं, परन्तु मिन्न भिन्न देशों में बसने से इनके नाम बदल गये हैं, जैसे सरस्वती नदी के किनारे के देशों में बसने से “सारस्वत” कन्नौज के राज्य में बसने से “कान्यकुब्ज” उत्कल देश में बसने से “उत्कल” मिथिलापुर से बसने मे मैथिल नाम पड़ा. परन्तु जो गौड़ अयाचक धर्म का पालन करते हुए अपने प्राचीन गौड़ देश में ही निवास करते रहे वे अब तक भी आदि गौड़ कहलाते हैं।

untachble

ब्राह्मणोत्पत्ति मार्तण्डया के अनुसार पृथ्वी के प्रथम ब्राह्मण (गौड़ ब्राह्मण) हैं जो छुआछूत के दोष को नहींमानते

eatingfood

मनुष्य मात्र के हाथ का भोजन ग्रहण करने में कोई बुराई नहीं मनाता क्योंकि प्रत्येक मनुष्य में इश्वर का वास् होता है गौड़ ब्राह्मणों का यह गुण,

ponga-pandit
अन्य का षड़यंत्र

दूसरों के द्वारा पृथ्वी के ‘आधुनिक ब्राह्मण’ कहा गया वेदों में भी छुआछूत को अपराध कहागया है

god-vans

गौड़ वंश आदि काल से छुआछूत का विरोधी रहा है इसप्रकार आदि गौड़ वंश समाज में छुआछूत को एक धार्मिक षड़यंत्र कहता आया है

Listen to our

भक्ति संगीत आराधना पूजा पाठ

  • Shiv Shakti -
Update Required To play the media you will need to either update your browser to a recent version or update your Flash plugin.
  • 1 Jan 2022- A New Update - Om Tryambakam Yajamahe | Shankar Mahadevan
Update Required To play the media you will need to either update your browser to a recent version or update your Flash plugin.

Our Services

सामाजिक गतिविधिया

सनातन धर्म सभा
शादी समारोह
सम्मान समारोह
कर्तव्य जागरूक
शिक्षा जागरुकता
पूजा पाठ
Brahmins-samaj1

Events

ब्राह्मण, हिन्दू वर्ण व्‍यवस्‍था का एक वर्ण है। यास्क मुनि के निरुक्त के अनुसार, ब्रह्म जानाति ब्राह्मणः अर्थात् ब्राह्मण वह है जो ब्रह्म (अंतिम सत्य, ईश्वर या परम ज्ञान) को जानता है। अतः ब्राह्मण का अर्थ है “ईश्वर का ज्ञाता”।

यद्यपि भारतीय जनसंख्या में ब्राह्मणों का दस प्रतिशत है तथापि धर्म, संस्कृति, कला तथा शिक्षा के क्षेत्र में देश कि आजादी और भारत राजनीति में महान योगदान रहता आया है। उत्तर प्रदेश=14%, बिहार=7%, उत्तराखंड=25%, हिमाचल प्रदेश=18%, मध्यप्रदेश=6% , राजस्थान=9.5%, हरियाणा=10%, पंजाब=7%, जम्मू कश्मीर=12%, झारखंड= 5%, दिल्ली=15% और देश कि लगभग=10% है ।

Success

Stories

मुनि : जो व्यक्ति निवृत्ति मार्ग में स्थित, संपूर्ण तत्वों का ज्ञाता, ध्याननिष्ठ, जितेन्द्रिय तथा सिद्ध है ऐसे ब्राह्मण को ‘मुनि’ कहते हैं।

स्मृति-पुराण

ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन

ऋषि : ऐसे व्यक्ति तो सम्यक आहार, विहार आदि करते हुए ब्रह्मचारी रहकर संशय और संदेह से परे हैं और जिसके श्राप और अनुग्रह फलित होने लगे हैं उस सत्यप्रतिज्ञ और समर्थ व्यक्ति को ऋषि कहा गया है।

स्मृति-पुराण

ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन

ऋषिकल्प : जो कोई भी व्यक्ति सभी वेदों, स्मृतियों और लौकिक विषयों का ज्ञान प्राप्त कर मन और इंद्रियों को वश में करके आश्रम में सदा ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए निवास करता है उसे ऋषिकल्प कहा जाता है।

स्मृति-पुराण

ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन

God Brahman Team

कार्यकारिणी सदस्य

From the blog

Latest News

09 Feb

9 फरवरी का राशिफल: सुनिए क्या कहती है आपकी राशि

9 फरवरी का राशिफल: सुनिए क्या कहती है आपकी राशि

09 Feb

Aaj Ka Panchang: आज का पंचांग, 9 फरवरी 2023, गुरुवार

Aaj Ka Panchang: आज फाल्गुन मास की चतुर्थी तिथि और दिन गुरुवार है।…

09 Feb

13 फरवरी से कुंभ राशि में सूर्य-शनि की युति, इन 5 राशि वालों को रहना होगा सावधान

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 13 फरवरी को सूर्य मकर राशि की अपनी यात्रा…

09 Feb

द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी: आज कब और किस विधि से पूजा करने पर बरसेगा गणपति का आशीर्वाद

Dwijapriya Sankashti Chaturthi 2023: भगवान गणेश की कृपा बरसाने वाली द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी…

भारत

  • UP: पुलिसकर्मियों के लिए सोशल मीडिया पॉलिसी जारी, वर्दी में वीडियो बनाकर FB और Insta पर अपलोड करने पर रोक - Aaj Tak

    UP: पुलिसकर्मियों के लिए सोशल मीडिया पॉलिसी जारी, वर्दी में वीडियो बनाकर FB और Insta पर अपलोड करने पर रोक  Aaj Takड्यूटी के समय अब रील्स यू ट्यूब नहीं देख सकेंगे UP Police सोशल मीडिया पॉलिसी- 2023 किए गए लागू..  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)ड्यूटी के वक्त सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे पुलिसकर्मी, यूपी पुलिस के लिए जारी हुआ ये फरमान  Zee HindustanUP में पुलिसकर्मियों के लिए लाया गया सोशल मीडिया गाइडलाइन, ड्यूटी के दौरान उपयोग करने पर लगी रोक  NDTV IndiaGoogle समाचार पर पूरी खबर देखें

  • स्मृति ईरानी की पुत्री शेनेल का विवाह राजस्थान के खींवसर फोर्ट में विंटेज कारो के काफिले में निकलेगी बारात.. - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

    स्मृति ईरानी की पुत्री शेनेल का विवाह राजस्थान के खींवसर फोर्ट में विंटेज कारो के काफिले में निकलेगी बारात..  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)बेटी की शादी के लिए स्मृति ईरानी ने बुक किया 500 साल पुराना शाही किला, देखें Inside Photos  Aaj Tak500 साल पुराने किले से होगी Smriti Irani की बेटी की शादी, राजस्थान के पूर्व मंत्री का है ये किला  ABPLIVEWho is Arjun Bhalla: कौन हैं स्मृति ईरानी के होने वाले दामाद अर्जुन भल्ला, केंद्रीय मंत्री  ABP न्यूज़Smriti Irani's Daughter Wedding : बड़ी बेटी Shanelle Irani की शादी के लिए तैयारियां जोरों पर  Live HindustanGoogle समाचार पर पूरी खबर देखें

  • हिमाचल में अडानी ग्रुप के ठिकानों पर रेड पड़ गई, टैक्स में गड़बड़ी का आरोप - Aaj Tak

    हिमाचल में अडानी ग्रुप के ठिकानों पर रेड पड़ गई, टैक्स में गड़बड़ी का आरोप  Aaj Takहिमाचल: अडानी ग्रुप पर सुक्खू सरकार का बड़ा एक्शन: एक्साइज डिपार्टमेंट की अडानी विल्मर के गोदामों पर रेड; दे...  Dainik Bhaskarहिमाचल में अडानी ग्रुप के ठिकानों पर रेड: एक्साइज टीमों ने अडानी विल्मर के गोदामों का रिकॉर्ड चेक किया, टैक...  Dainik BhaskarSolan News: परवाणू में अदाणी की कंपनी में आबकारी एवं कराधान विभाग ने दी दबिश  अमर उजालाभास्कर अपडेट्स: हिमाचल में अडानी ग्रुप के ठिकानों पर रेड, एक्साइज टीमों ने गोदामों का रिकॉर्ड चेक किया  Dainik BhaskarGoogle समाचार पर पूरी खबर देखें

  • Lucknow : आज से आठ दिन पांच रूटों पर बदली रहेगी ट्रैफिक व्यवस्था, भारी वाहनों का प्रवेश भी प्रतिबंधित - अमर उजाला

    Lucknow : आज से आठ दिन पांच रूटों पर बदली रहेगी ट्रैफिक व्यवस्था, भारी वाहनों का प्रवेश भी प्रतिबंधित  अमर उजालाLucknow Traffic System: यहां हमेशा क्‍यों रहता है जाम का झाम?  InextliveUP Traffic Alert: लखनऊ में इन रूट्स पर एक सप्ताह रहेगा ट्रैफिक डायवर्जन, देखें एडवाइजरी  Aaj Tak9 फरवरी से शहीद पथ पर जाने से बचें: लखनऊ में जी-20 सम्मेलन के चलते प्रतिबंधित रहेगा मार्ग, भारी वाहनों पर रोक  Dainik Bhaskarबड़ी कठिन है डगर Lucknow की! G-20 में आए मेहमान कैसे निकलेंगे बेहाल ट्रैफिक से  InextliveGoogle समाचार पर पूरी खबर देखें

  • चंडीगढ़-मोहाली बॉर्डर पर हिंसक हुए प्रदर्शनकारी, पुलिस पर हथियारों से किया हमला, कई जवान घायल... - India TV Hindi

    चंडीगढ़-मोहाली बॉर्डर पर हिंसक हुए प्रदर्शनकारी, पुलिस पर हथियारों से किया हमला, कई जवान घायल...  India TV Hindiचंडीगढ़ में प्रदर्शनकारियों का पुलिस पर हमला: बैरिकेड तोड़े; तलवार-डंडों से पीटा; सिख कैदियों की रिहाई की कर ...  Dainik Bhaskarचंडीगढ़ में उग्र प्रदर्शन: पुलिसकर्मियों को दौड़ा-दौड़ा पीटा, तलवारों से हमला, गाड़ियां तोड़ीं, कई हुए जख्मी  अमर उजालासिख कैदियों की रिहाई को लेकर चंडीगढ़ में भारी बवाल, प्रदर्शनकारियों ने डंडे और तलवारों से किया हमला, 13 पुल...  News18 हिंदीसिख कैदियों की रिहाई को लेकर प्रदर्शन; चंडीगढ़ में पुलिस से झड़प, करीब 30 पुलिसकर्मी घायल  NDTV IndiaGoogle समाचार पर पूरी खबर देखें

  • Jharkhand ED ने विधायक विक्सल से 9 घंटे की पूछताछ बोले- सरकार गिराने का नहीं रची साजिश हमें बदनाम किया गय.. - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

    Jharkhand ED ने विधायक विक्सल से 9 घंटे की पूछताछ बोले- सरकार गिराने का नहीं रची साजिश हमें बदनाम किया गय..  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)विधायक कैश कांड में राजेश कच्छप ED के पास बोले- माइनिंग से जुटाये थे पैसे, इरफान अंसारी ने कही थी ये बात  प्रभात खबर - Prabhat KhabarVideo : ED से राजेश कच्छप ने कहा माइनिंग , तो इरफान अंसारी बोले पेट्रोल की सेल से जुटाये थे पैसे  प्रभात खबर - Prabhat KhabarGoogle समाचार पर पूरी खबर देखें

  • बिहारः छपरा हिंसा में घायल एक और युवक की मौत, 10 फरवरी तक इंटरनेट को किया गया बैन - Aaj Tak

    बिहारः छपरा हिंसा में घायल एक और युवक की मौत, 10 फरवरी तक इंटरनेट को किया गया बैन  Aaj TakChhapra में सोशल मीडिया की जगह बंद कर दी इंटरनेट सेवा नदी किनारे जुटी युवाओं की भीड़ सरकारी कामकाज भी ठप..  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)Bihar Mob Lynching : मांझी के मुबारकपुर में पीटे गए एक और युवक की पटना में मौत; सारण में नेट 10 तक बंद  अमर उजालाMob Lynching: बिहार के छपरा में तनाव के बाद सोशल मीडिया पर पाबंदी  Aaj TakGoogle समाचार पर पूरी खबर देखें

  • महाविनाश के बीच तुर्की में 'भूकंप टैक्स' पर आक्रोश, हजारों की मौत के बाद फूटा लोगों का गुस्सा - Aaj Tak

    महाविनाश के बीच तुर्की में 'भूकंप टैक्स' पर आक्रोश, हजारों की मौत के बाद फूटा लोगों का गुस्सा  Aaj TakTurkey Earthquake Update: भूकंप में भारत की मदद रोकना चाहता था Pakistan, Turkey ने उड़ाई धज्जियां  Zee Newsएक झटके में कब्रिस्तान बना गया तुर्की, अब तक 11,000 लोगों की मौत, शवों के मिलने का सिलसिला नहीं हो रहा खत्म - divya himachal  Divya Himachalतुर्की-सीरिया में भूकंप से विनाश... जलजले के मलबे से निकली जिंदगी की 5 कहानियां  Aaj TakEarthquake: क्या कुछ पशु-पक्षियों को पहले ही हो जाता है भूकंप का आभास? किन संकेतों के जरिए वे करते हैं अलर्...  Zee News HindiGoogle समाचार पर पूरी खबर देखें

  • Ramcharitmanas Row: पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी पर स्वामी प्रसाद मौर्य की प्रतिक्रिया, कहा- 'तथाकथित - ABP न्यूज़

    Ramcharitmanas Row: पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी पर स्वामी प्रसाद मौर्य की प्रतिक्रिया, कहा- 'तथाकथित  ABP न्यूज़UP स्वामी प्रसाद मौर्य ने राष्ट्रपति व पीएम को पत्र लिख रामचरितमानस की कुछ चौपाइयां हटाने की मांग की..  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)Swami Prasad Maurya ने मानस विवाद को पहुंचा दिया दिल्ली, PM Modi को भी लिख डाली चिट्ठी  ABP न्यूज़रामचरितमानस की कुछ चौपाइयों को हटाने की मांग, स्वामी प्रसाद ने PM मोदी को लिखा पत्र  Aaj TakGoogle समाचार पर पूरी खबर देखें

  • Prayagraj : नाव पर खड़े होकर सेल्फी लेते समय युवक यमुना में समाया, 15 दिन पहले ही नए घर में हुआ था शिफ्ट - अमर उजाला

    Prayagraj : नाव पर खड़े होकर सेल्फी लेते समय युवक यमुना में समाया, 15 दिन पहले ही नए घर में हुआ था शिफ्ट  अमर उजाला

दुनिया