Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष
We always believe We always believe प्रभु परशुराम ने यह पृथ्वी जीत कर ब्राह्मणों को दिया था। उस समय पृथ्वी पर रहने वाले समस्त उत्तर भारतीय ब्राह्मण संयुक्त रुप से गौड़ कहलाते थे। परंतु लंका विजय के बाद, इन ब्राह्मणों में वर्ग या समूह स्थापित होने प्रारंभ हो गए। भगवान परशुराम त्रेता युग (रामायण काल) में एक ब्राह्मण ऋषि के यहाँ जन्मे थे। जो विष्णु के छठा अवतार हैं
We always believe
God is Above All Things - जानिए ब्राह्मण कर्तव्य दिशा निर्देश
We always believe
God is Above All Things - ब्राह्मणोत्पत्ति
प्रभु परशुराम ने यह पृथ्वी जीत कर ब्राह्मणों को दिया था। उस समय पृथ्वी पर रहने वाले समस्त उत्तर भारतीय ब्राह्मण संयुक्त रुप से गौड़ कहलाते थे। परंतु लंका विजय के बाद, इन ब्राह्मणों में वर्ग या समूह स्थापित होने प्रारंभ हो गए।
.
भगवान परशुराम त्रेता युग (रामायण काल) में एक ब्राह्मण ऋषि के यहाँ जन्मे थे। जो विष्णु के छठा अवतार हैं
ब्राह्मण भगवान परशुराम और क्षत्रिय भगवान परशुराम

गायत्री दीक्षा लेकर कोई भी ब्रह्माण बन सकता है

ब्राह्मण जाति को हिन्दू धर्म में शीर्ष पर रखा गया है। लेकिन ब्राह्मणो के बारे में आज भी बहुत ही कम लोग जानते है, कि ब्राह्मण कितने प्रकार के होते है। स्मृति-पुराणों में ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन है:- मात्र, ब्राह्मण, श्रोत्रिय, अनुचान, भ्रूण, ऋषिकल्प, ऋषि और मुनि। ब्राह्मण को धर्मज्ञ विप्र और द्विज भी कहा जाता है। 

pandit
ब्राह्मण के कर्तव्य

छः कर्तव्य

सबसे पहले ब्राह्मण शब्द का प्रयोग अथर्वेद के उच्चारण कर्ता ऋषियों के लिए किया गया था। फिर प्रत्येक वेद को समझने के लिए ग्रन्थ लिखे गए उन्हें भी ब्रह्मण साहित्य कहा गया। ब्राह्मण का तब किसी जाति या समाज से नहीं था।
===================

वेद पड़ना पड़ना , यज्ञ करना करना , दान देना और लेना

ब्राह्मण वंशावली

ब्राह्मण कितने प्रकार

यूं तो प्रभु परशुराम ने प्रभु श्रीराम के पृथ्वी पर आगमन से पूर्व ही बार-बार यह पृथ्वी जीत कर ब्राह्मणों को शासन स्वरूप देना प्रारंभ कर दिया था। उस समय पृथ्वी पर रहने वाले समस्त उत्तर भारतीय ब्राह्मण संयुक्त रुप से गौड़ कहलाते थे। परंतु लंका विजय के बाद, इन ब्राह्मणों में वर्ग या समूह स्थापित होने प्रारंभ हो गए। 

ब्राह्मणों की श्रेणियां

ब्राह्मणों में विभिन्न उपनाम..

ब्राह्मणों को सम्पूर्ण भारतवर्ष में विभिन्न उपनामों से जाना जाता है –> दीक्षित, शुक्ल, द्विवेदी त्रिवेदी, खाण्डल विप्र, ऋषीश्वर, वशिष्ठ, कौशिक, भार्गव , भारद्वाज, सनाढ्य ब्राह्मण, भूमिहार ब्राह्मण, राय ब्राह्मण, त्यागी , बैरागी वैष्णव ब्राह्मण, बाजपेयी,  श्रीखण्ड,भातखण्डे अनाविल, देशस्थ, कोंकणस्थ , दैवदन्या, देवरुखे और करहाड़े, निषाद अयंगर, हेगडे,  नम्बूदरीपाद, अयंगर एवं अय्यर, नियोगी,  राव, दास, मिश्र, शाकद्वीपीय (मग), जोशी, आदि।

allpandit

ब्राह्मणों में कई जातियां है।इससे मूल कार्य व स्थान का पता चलता है

सम्यग व्यवहार सिद्धि के लिए प्रतिपादित की। अर्थात् जिस वंश में जो आदि पुरुष परम कीर्ति वाला प्रतापी, सिद्ध पुरुष, तपस्वी ऋषि, मनीषी, कुलप्रवर्त्तक आचार्य हुआ हो उसके नाम से ही गोत्र का नामकरण हो गया, जैसे- मनुष्यों को अपनी पहचान बताने के लिए अपने नाम के साथ पिता, पितामह प्रतितामह आदि का नाम बताकर पूर्ण परिचय देता है। इस कारण आदि काल से आज तक ब्राह्मण जाति के लोग अपने आपको वशिष्ठ, भारद्वाज, भार्गव , गौतम, अत्रि कश्यपादि की सन्तान बताकर गौरव का अनुभव करते हैं। यहाँ यह भी लिख देना उचित है कि प्रत्येक गोत्र के साथ प्रतिष्ठा के नाम होते थे। जो जिस ग्राम व स्थान में बसे व जिसकी जैसी योग्यता होती थी उसी प्रतिष्ठा से उसे पुकारा जाता था। जैसे- चतुर्वेदी, द्विवेदी, त्रिवेदी, पाठक, शुक्ल, पांडे, दिक्षित, उपाध्याय, वाजपेयी एवं अग्निहोत्री आदि। इनमें वेद पढ़ने से द्विवेदी, त्रिवेदी आदि कहाये, अध्यापक होने से उपाध्याय पाठक और भट्टाचार्य कहाये। यज्ञादि कर्मानुष्ठान करने से वाजपेयी, अग्निहोत्री आरि दिक्षित कहाये श्रोत्रीय और स्मृति कर्मानुष्ठान करने से मिश्र. पुरोहित और शुद्ध निर्मल गुण-कर्मों के अनुष्ठान से शुक्ल कहाये।

ब्राह्मणों का इतिहास - स्थान , शासन, गोत्र , पदवी

आर्यावर्त्त के बीच पूर्वकाल में महाराजा जनमेजय एक बड़े चक्रवर्ती राजा का गुप्त दान भेद खुला कि जो जो ग्राम जिस जिस को मिला वह उसी में बसा और जिस ग्राम या नगर में बसा उसी पर उसका शासन हुआ, इन शासनों को कोई और अवटंक भी कहते हैं । बंगदेश से लेकर अमरनाथ पर्यन्त गौड़ देश की स्थिति है | यह श्रावस्तीपुरी गौड़ देश में इस समय मी सरयू नदी के उत्तर गोंडा नगर के समीप वर्तमान हैं, जिस देश की सीमा पूर्व में गंगा और गण्डकी का सम है, पश्चिम और दक्षिण दिशा में सरयू है, उत्तर में हिमालय है इसके मध्य की भूमि का नाम गौड़ देश है गण्डकी नदी की पश्चिमी भूमि गौड़ देश कहलाती है। सर्व प्रथम गोत्र का नाम अर्थात् जिस ऋषि की सन्तान हो उस ऋषि का नाम गोत्र हमारे गोत्र कहलाये जैसे- वशिष्ठ, भार्गव , भारद्वाज, गौतम, अत्रि कश्यपादि तथा शासन शासन को अवटंक या अल्ल भी कहते हैं जो शासन या अल्ल ब्राह्मणों के शादी विवाह मैं प्रयोग करते हैं जिससे किसी ऋषि की संतान का विवाह संयोग आपस में भाई बहन के रूप नहीं बने | पदवी जैसे- चतुर्वेदी, द्विवेदी, त्रिवेदी, पाठक, शुक्ल, पांडे, दिक्षित, उपाध्याय, वाजपेयी एवं अग्निहोत्री आदि।  Read more

shastra

छः शास्त्रों का बनना

“न्याय शास्त्र” गौतम ऋषि ने बताया. “वैशेषिकशास्त्र” कणाद मुनि ने रचा, “सांख्य शास्त्र” को कपिल आचार्य ने लिखा, “योग शास्त्र” का पातञ्जलि ने निर्माण किया, “मीमांसा शास्त्र” जैमिनी ने और “वेदान्त शास्त्र” को व्यास ने बनाया |

सूर्य सिद्धान्त

इसी प्रकार पृथ्वी और सूर्य चन्द्रमा तथा नक्षत्रों के घूमने और उदय अस्त पर वर्षों तक ध्यान दिया और यहाँ तक हद्द करदी कि दृथ्वी मुय चन्द्रमा की परिधियों को ठीक ठीक नाप लिया और उनके चक्रों का हिसाब समझ कर सूर्य चन्द्रमा के ग्रहण लगने का गुरु ऐसा सच्चा बना लिया था जो आज तक असत्य नहीं हुआ। इस समय के बने शास्त्र का नाम “सूर्य सिद्धान्त” हैं । जब ऋग्वेद और अथर्ववेद के मंत्रों पर विचार किया तब अग्नि विद्या और बिजली की विद्या को भी जान लिया था । फिर समुद्र पर दौड़ने वाली सवारी तार भृगर्भादि और आ काश में उड़ने वाले अनेक विमान भी बना लिये थे। जब क्षत्रियों का धनुविधा सिखाने की आवश्यकता हुई तब शीतल बाण, अग्निवाण, और लखसंघारीबाण बनाये गये थे। इस समय के ऋषि मनु स्वप्टा तथा विश्वकर्मा आदि हुये हैं।

ब्राह्मण एक ही जाति

सूर्य सिद्धान्त —-> इस समय में भी सब ब्राह्मण एक ही जाति के थे। अब यहाँ से बहुत काल पश्चात् ब्राह्मणों के दो भेद हो गये ओ विध्याचल के उत्तर और दक्षिण देश में गौड़ और द्राविड़ नाम से पुकारे जाने लगे अर्थात उत्तर देशवासी गौड़ ब्राह्मण और दक्षिण देश वासी द्राविड़ ब्राह्मण कहे जाते थे फिर एक एक भेद के पांच पांच भेद हुए अर्थात पञ्च गौड़ और पञ्च द्राविड़ ऐसे दश प्रकार के ब्राह्मण होगये | सारस्वत १ कान्य कुब्ज २ गौड़ ३ उत्कल ४ और मैथिल ५ ये पंच गौड़ कहलाते हैं और विध्याचल पर्वत के उत्तर में बसते हैं।  कर्णाटक   १  तैलङ्ग   २  द्राविड़   ३  महाराष्ट्रियन   ४  और गुर्जर  ५ ये पंच द्राविड़ कहलाते हैं और विध्याचल के दक्षिण देश में बसते हैं | इस प्रकार पंचगौड़ और पंच द्राविड़ मिलकरदश ब्राह्मण कहलाते हैं।

Beliefs

पृथ्वी के “प्रथम शासक” आदि गौड़ या गौड़ ब्राह्मण।

आदि गौड़ (सृष्टि के प्रारंभ से गौड़ या आदि काल से गौड़ ) या गौड़ ब्राह्मण “पृथ्वी के प्रथम शासक ब्राह्मण” उत्तर भारतीय ब्राह्मणों की पांच गौड़ब्राह्मणों की मुख्य शाखा का प्रमुख भाग है, गौड़ ब्राह्मण, आदि गौड़ तथा श्री आदि गौड़ एक ही ब्राह्मण वंश हैl .. सभी तथ्य नीचे दिए लिंक पर ..

पंच गौड़ों में कहै जो सारस्वत, कान्य कुब्ज, उत्कल और मैथिल है ये भी गौड़ ही हैं, परन्तु मिन्न भिन्न देशों में बसने से इनके नाम बदल गये हैं, जैसे सरस्वती नदी के किनारे के देशों में बसने से “सारस्वत” कन्नौज के राज्य में बसने से “कान्यकुब्ज” उत्कल देश में बसने से “उत्कल” मिथिलापुर से बसने मे मैथिल नाम पड़ा. परन्तु जो गौड़ अयाचक धर्म का पालन करते हुए अपने प्राचीन गौड़ देश में ही निवास करते रहे वे अब तक भी आदि गौड़ कहलाते हैं।

untachble

ब्राह्मणोत्पत्ति मार्तण्डया के अनुसार पृथ्वी के प्रथम ब्राह्मण (गौड़ ब्राह्मण) हैं जो छुआछूत के दोष को नहींमानते

eatingfood

मनुष्य मात्र के हाथ का भोजन ग्रहण करने में कोई बुराई नहीं मनाता क्योंकि प्रत्येक मनुष्य में इश्वर का वास् होता है गौड़ ब्राह्मणों का यह गुण,

ponga-pandit
अन्य का षड़यंत्र

दूसरों के द्वारा पृथ्वी के ‘आधुनिक ब्राह्मण’ कहा गया वेदों में भी छुआछूत को अपराध कहागया है

god-vans

गौड़ वंश आदि काल से छुआछूत का विरोधी रहा है इसप्रकार आदि गौड़ वंश समाज में छुआछूत को एक धार्मिक षड़यंत्र कहता आया है

Listen to our

भक्ति संगीत आराधना पूजा पाठ

  • Shiv Shakti -
Update Required To play the media you will need to either update your browser to a recent version or update your Flash plugin.
  • 1 Jan 2022- A New Update - Om Tryambakam Yajamahe | Shankar Mahadevan
Update Required To play the media you will need to either update your browser to a recent version or update your Flash plugin.

Our Services

सामाजिक गतिविधिया

सनातन धर्म सभा
शादी समारोह
सम्मान समारोह
कर्तव्य जागरूक
शिक्षा जागरुकता
पूजा पाठ
Brahmins-samaj1

Events

ब्राह्मण, हिन्दू वर्ण व्‍यवस्‍था का एक वर्ण है। यास्क मुनि के निरुक्त के अनुसार, ब्रह्म जानाति ब्राह्मणः अर्थात् ब्राह्मण वह है जो ब्रह्म (अंतिम सत्य, ईश्वर या परम ज्ञान) को जानता है। अतः ब्राह्मण का अर्थ है “ईश्वर का ज्ञाता”।

यद्यपि भारतीय जनसंख्या में ब्राह्मणों का दस प्रतिशत है तथापि धर्म, संस्कृति, कला तथा शिक्षा के क्षेत्र में देश कि आजादी और भारत राजनीति में महान योगदान रहता आया है। उत्तर प्रदेश=14%, बिहार=7%, उत्तराखंड=25%, हिमाचल प्रदेश=18%, मध्यप्रदेश=6% , राजस्थान=9.5%, हरियाणा=10%, पंजाब=7%, जम्मू कश्मीर=12%, झारखंड= 5%, दिल्ली=15% और देश कि लगभग=10% है ।

Success

Stories

मुनि : जो व्यक्ति निवृत्ति मार्ग में स्थित, संपूर्ण तत्वों का ज्ञाता, ध्याननिष्ठ, जितेन्द्रिय तथा सिद्ध है ऐसे ब्राह्मण को ‘मुनि’ कहते हैं।

स्मृति-पुराण

ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन

ऋषि : ऐसे व्यक्ति तो सम्यक आहार, विहार आदि करते हुए ब्रह्मचारी रहकर संशय और संदेह से परे हैं और जिसके श्राप और अनुग्रह फलित होने लगे हैं उस सत्यप्रतिज्ञ और समर्थ व्यक्ति को ऋषि कहा गया है।

स्मृति-पुराण

ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन

ऋषिकल्प : जो कोई भी व्यक्ति सभी वेदों, स्मृतियों और लौकिक विषयों का ज्ञान प्राप्त कर मन और इंद्रियों को वश में करके आश्रम में सदा ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए निवास करता है उसे ऋषिकल्प कहा जाता है।

स्मृति-पुराण

ब्राह्मण के 8 भेदों का वर्णन

God Brahman Team

कार्यकारिणी सदस्य

From the blog

Latest News

26 Feb

Hanuman Puja: जीवन में चल रही समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए मंगलवार को करें इस स्तोत्र का पाठ

ऐसे में सुबह उठकर स्नान आदि से निवृत्त होकर विधिपूर्वक संकट मोचन की…

26 Feb

बृ‍हस्‍पति कर रहे हैं दैत्‍य गुरु शुक्र की राशि में प्रवेश, खुलने वाली है इन 3 राशियों की किस्‍मत

वैदिक ज्‍योतिष में ग्रहों के एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करने…

26 Feb

Chandra Dev Names: कुंडली में चंद्रमा की स्थिति मजबूत करने के लिए अपनाएं ये चमत्कारी उपाय

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सोमवार के दिन चंद्र देव की पूजा-उपासना करने से…

26 Feb

कुंभ राशि में बुध के आने पर, इन्‍हें मिलेगा छप्‍पर फाड़ के पैसा, दूर होंगे सारे कष्‍ट

ज्‍योतिषशास्‍त्र में ग्रहों के गोचर का बहुत महत्‍व है। जब कोई ग्रह एक…

भारत

  • Paytm Crisis: विजय शेखर शर्मा ने पेटीएम बैंक के चेयरमैन पद से इस्तीफा दिया, नए बोर्ड का गठन - NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)

    Paytm Crisis: विजय शेखर शर्मा ने पेटीएम बैंक के चेयरमैन पद से इस्तीफा दिया, नए बोर्ड का गठन  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)Paytm Payment Bank के चेयरमैन पद से विजय शेखर शर्मा का इस्तीफा, बोर्ड सदस्यता भी छोड़ी  Aaj Takपेटीएम पेमेंट्स बैंक के बोर्ड से विजय शेखर शर्मा का इस्तीफा, बोर्ड में हुआ फेरबदल..  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)पेटीएम बैंक के चेयरमैन विजय शेखर का इस्तीफा: नया बोर्ड बनाया गया, इसमें सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व चेय...  Dainik Bhaskar

  • बिना ड्राइवर 70 KM कैसे दौड़ी मालगाड़ी, वायरल वीड‍ियो देखें हैरान लोग, जानें पूरा मामला - Aaj Tak

    बिना ड्राइवर 70 KM कैसे दौड़ी मालगाड़ी, वायरल वीड‍ियो देखें हैरान लोग, जानें पूरा मामला  Aaj Takबिना ड्राइवर के जम्मू से पंजाब पहुंची मालगाड़ी को आखिर कैसे रोका गया, रेलवे ने  ABP न्यूज़ब्रेक लगाना भूले, कश्मीर के कठुआ से होशियारपुर तक 80 किमी बिना ड्राइवर के चली गई ट्रेन, मचा हड़कंप  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)Punjab: बिना लोको पायलट 80 किमी तक दौड़ी मालगाड़ी, रेलवे ने छह दोषी कर्मचारी किए सस्‍पेंड; जम्‍मू से पहुंची थी पंजाब - train ran 80 km without loco pilot now major action taken Had reached Punjab from Jammu  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

  • Rajya Sabha Election 2024: अखिलेश यादव की डिनर पार्टी का 'स्वाद' बिगड़ा, नहीं पहुंचे सपा के आठ विधायक, - ABP न्यूज़

    Rajya Sabha Election 2024: अखिलेश यादव की डिनर पार्टी का 'स्वाद' बिगड़ा, नहीं पहुंचे सपा के आठ विधायक,  ABP न्यूज़यूपी राज्यसभा चुनाव में सपा के साथ होगा खेला? डिनर में नहीं पहुंचे 8 विधायक, क्रॉस वोटिंग का डर  Aaj Takमीटिंग में नहीं पहुंचे सपा के ये विधायक, राज्यसभा चुनाव में क्या अखिलेश के विधायक करेंगे क्रॉस वोटिंग  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)राज्यसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी को झटका! 7 विधायक मीटिंग में नहीं पहुंचे, संपर्क करने में जुटी पार्ट...  India TV Hindiराज्यसभा चुनाव: चुनाव के एक दिन पहले सपा की बैठक, आठ विधायक नदारद, क्रास वोटिंग की अटकलें  अमर उजाला

  • RO-ARO पेपर लीक के दावों का सच क्या हैं? लखनऊ के पवन-राहुल ने जो दिखाया, दिमाग घूम जाएगा - What truth about claims of RO ARO paper leak Lucknow Pawan and Rahul showed this know - - UPTak

    RO-ARO पेपर लीक के दावों का सच क्या हैं? लखनऊ के पवन-राहुल ने जो दिखाया, दिमाग घूम जाएगा - What truth about claims of RO ARO paper leak Lucknow Pawan and Rahul showed this know -  UPTakUP Police Exam: सिपाही भर्ती पेपर लीक की प्रिंटिंग प्रेस में रची गई थी साजिश! इन सवालों के जवाब तलाश रही UP STF  Aaj TakUP Police Exam Cancelled: यूपी पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले में एक्शन में योगी सरकार, STF ने जांच तेज  ABP न्यूज़

  • 'आज तू रहेगी या मैं' बोलकर पति ने सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर पर की ताबड़तोड़ फायरिंग, मौके पर मौत, देखें CCTV... - India TV Hindi

    'आज तू रहेगी या मैं' बोलकर पति ने सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर पर की ताबड़तोड़ फायरिंग, मौके पर मौत, देखें CCTV...  India TV Hindiमर्डर के बाद भी Instagram पर बढ़ रहे हैं अनामिका बिश्नोई के फॉलोअर्स, पढ़ें राजस्थान की सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर के अंत की खौफनाक कहानी  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)शॉप में महिला की गोली मारकर हत्या, CCTV में कैद कातिल की तस्वीर ने उड़ाए लोगों के होश  Aaj Tak''आज या तो तूं रहेगी या फिर मैं'', कहकर पति ने तड़ातड़ बरसा दी पत्नी पर गोलियां, और फिर पसर गया सन्नाटा...  News18 हिंदीफलोदी में दिनदहाड़े महिला को मारी गई गोली, लेकिन जब सामने आया CCTV फुटेज तो क्यों उड़ गए सबके होश? - woman was shot in Phalodi but when CCTV footage surfaced, why did everyone lose their senses -  RajasthanTak

  • Nafe Singh Rathee Murder: INLD हरियाणा अध्यक्ष नफे सिंह राठी की हत्या क्या BJP नेता ने कराई? पुलिस ने इस पूर्व विधायक पर की FIR - NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)

    Nafe Singh Rathee Murder: INLD हरियाणा अध्यक्ष नफे सिंह राठी की हत्या क्या BJP नेता ने कराई? पुलिस ने इस पूर्व विधायक पर की FIR  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)मॉडस ऑपरेंडी, कत्ल का तरीका और गाड़ी घेरकर गोलियों की बौछार... मूसेवाला की तरह ही हुआ नफे सिंह राठी का मर्डर  Aaj TakDeshhit: नफे सिंह राठी की हत्या का नया CCTV वीडियो आया  Zee News Hindiहमलावरों की कार में बाइक का नंबर, ड्राइवर को नहीं मारी गोली... नफे सिंह राठी हत्याकांड के 5 बड़े अपडेट  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)Nafe Singh Rathee Murder: नफे सिंह हत्याकांड में दो संदिग्ध हिरासत में, CBI को सौंपा गया केस  News18 हिंदी

  • पीएम सूर्य घर मुफ्त बिजली योजना में कितनी मिल रही सब्सिडी, कौन कर सकता है आवेदन? - CNBCTV18 हिंदी

    पीएम सूर्य घर मुफ्त बिजली योजना में कितनी मिल रही सब्सिडी, कौन कर सकता है आवेदन?  CNBCTV18 हिंदीSolar Rooftop Scheme: हर महीने मिलेगी 300 यूनिट फ्री बिजली, जानिए कैसे करें आवेदन  CNBCTV18 हिंदीसोलर पैनल लगाने के लिए सरकार देगी सब्सिडी, उपभोक्ता को 300 यूनिट तक फ्री मिलेगी बिजली  Dainik BhaskarPM Suryodaya Yojana : सोलर पैनल पर भारी-भरकम सब्सिडी दे रही मोदी सरकार, इस वेबसाइट पर आज ही करें ऑनलाइन आवेदन - pm suryodaya yojana 2024 apply online How to get benefit of Pradhan Mantri Suryoday Yojana  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

  • पश्चिम बंगाल: संदेशखाली मुद्दा क्या लोकसभा चुनाव तक रहेगा गर्म, बीजेपी की रणनीति के जवाब में टीएमसी का प्लान - BBC.com

    पश्चिम बंगाल: संदेशखाली मुद्दा क्या लोकसभा चुनाव तक रहेगा गर्म, बीजेपी की रणनीति के जवाब में टीएमसी का प्लान  BBC.comसंदेशखाली केस- हाईकोर्ट ने दूसरी बार बंगाल सरकार को फटकारा: कहा- शाहजहां को गिरफ्तार करो; TMC बोली- 7 दिन म...  Dainik Bhaskarसंदेशखाली में झाड़ू के साथ महिलाओं का विरोध प्रदर्शन, ममता के मंत्री बोले- हमें सिर्फ डेढ़ महीने की मोहलत दे दो  Aaj Tak

  • कौन हैं एनी राजा, जिनको CPI ने बनाया राहुल गांधी की वायनाड सीट से उम्मीदवार और I.N.D.I.A - ABP न्यूज़

    कौन हैं एनी राजा, जिनको CPI ने बनाया राहुल गांधी की वायनाड सीट से उम्मीदवार और I.N.D.I.A  ABP न्यूज़INDIA ब्लॉक में शामिल CPI ने केरल में कांग्रेस को दी कड़ी चुनौती, राहुल गांधी और शशि थरूर के खिलाफ उतारे उम्मीदवार  Aaj Takराहुल गांधी की वायनाड और शशि थरूर की सीट पर लेफ्ट ने घोषित किए प्रत्याशी, इंडिया गठबंधन में हो गया 'खेल'  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)केरल में भी I.N.D.I.A ब्लॉक में फूट: CPI ने 4 सीटों पर प्रत्याशी घोषित किए; वायनाड से राहुल, तिरुवनंतपुरम स...  Dainik Bhaskar

  • यूक्रेन ने रूस पर किया मिसाइल अटैक, सूरत के 23 साल के लड़के की मौत, आर्मी में था हेल्पर - Aaj Tak

    यूक्रेन ने रूस पर किया मिसाइल अटैक, सूरत के 23 साल के लड़के की मौत, आर्मी में था हेल्पर  Aaj Tak'रूसी सेना' में क्या कर रहे भारतीय युवा,यूक्रेन से लड़ने युद्ध के मैदान तक कैसे पहुंचे ?  BBC.comढाई लाख महीने की नौकरी, बड़े सपने लेकर गया रूस, यूक्रेन से युद्ध में मारा गया गुजरात का हेमिल  NBT नवभारत टाइम्स (Navbharat Times)Russia Ukraine War: विदेश मंत्रालय की रूस से हुई बात का असर, रूसी सेना से लौटने लगे ठेके पर नियुक्त भारतीय..  दैनिक जागरण (Dainik Jagran)

दुनिया