Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

इस घर में आ जाए केतु, तो प्‍यार और परिवार से कर देता है अलग, चारों तरफ अकेलापन ही दिखता है

वैदिक ज्‍योतिष में केतु को एक छाया ग्रह बताया गया है। ऐसा कहा जाता है कि राहु इच्‍छा को दर्शाता है और केतु इच्‍छाओं से मुक्‍ति पाने का कारक है। केतु एक रहस्‍मयी ग्रह है जिसका संबंध अध्‍यात्‍म से है। चूंकि, केतु धड़ है और इसका सिर नहीं है इसलिए यह ग्रह जिज्ञासा की गहराईयों तक लेकर जाता है।

अत: यह ग्रह गहन ज्ञान, अध्‍ययन, आत्‍म-निरीक्षण और किसी भी मामले को गहराई से जानने से संबंधित है। कुंडली के हर भाव में केतु का प्रभाव अलग-अलग होता है और आज इस ब्‍लॉग में हम आपको बता रहे हैं कि जन्‍मकुंडली के पंचम भाव में केतु का क्‍या प्रभाव होता है।

भविष्य से जुड़ी किसी भी समस्या का समाधान मिलेगा विद्वान ज्योतिषियों से बात करके  

पंचम भाव में केतु का प्रभाव

केतु के पांचवे भाव में होने पर जातक की फिलॉस्‍फी और इससे संबंधित विषयों में रु

चि बढ़ती है। ये अध्‍ययन कार्यों या इस क्षेत्र में उच्‍च शिक्षा प्राप्‍त करने एवं इसमें विशेषज्ञता हासिल कर सकते हैं। अपने इस ज्ञान के कारण इन्‍हें खूब नाम और शोहरत मिलने की संभावना रहती है। केतु के इस भाव में होने पर जातक गूढ़-विज्ञान में रुझान रखता है और वह इस क्षेत्र में पढ़ाई भी कर सकता है। आप इसमें अपना करियर भी बना सकते हैं क्‍योंकि इसमें आपको प्रगति और शोहरत मिलने की संभावना अधिक रहती है।

इस भाव में जब केतु हो, तो व्‍यक्‍ति की धर्म और अध्‍यात्‍म में रुचि बढ़ती है और वह आध्‍यात्मिक कार्यों में लीन रहता है। इससे व्‍यक्‍ति को शांति और सुकून मिलता है।

कुंडली का पांचवां भाव प्रेम और रोमांस का कारक होता है। यह भाव बताता है कि आपके जीवन में आपके रिश्‍ते कैसे रहेंगे और ये आपके लिए कितना मायने रखते हैं। इसी भाव से जातक के यौन सुख का भी पता चलता है। शेयर मार्केट में निवेश करने और यहां से मिलने वाला लाभ भी इसी भाव पर निर्भर करता है।

यह भाव आपकी रचनात्‍मकता और कौशल के बारे में बताता है। पंचम भाव बताता है कि आप अपने जीवन में कितने खुश हैं। वहीं दूसरी ओर, केतु आपको अपने परिवार से धीरे-धीरे दूर भी लेकर जाता है और आपकी अध्‍यात्‍म एवं धार्मिक कार्यों में लीन रहने की इच्‍छा करती है और आप इन्‍हीं कार्यों में अपना अधिकतर समय बिताते हैं। यहां तक कि आप अपने करीबियों से भी दूर हो जाते हैं। केतु के पांचवे भाव में होने पर शेयर मार्केट में खूब लाभ कमाने का मौका मिलता है।

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा 

पंचम भाव में केतु का सकारात्‍मक प्रभाव

कुंडली के पांचवे भाव में केतु के सकारात्‍मक स्थिति में होने पर व्यक्ति की नई भाषा सीखने में रुचि होती है और वह इसमें विशेषज्ञ बन सकता है। आपके शत्रु आपको नुकसान नहीं पहुंचा सकते हैं और आप उनके द्वारा खड़ी की गई किसी भी अड़चन या चुनौती से उभरने में सक्षम रहते हैं। आपका अपने जीवनसाथी के साथ गहरा संबंध रहता है। हालांकि, धीरे-धीरे आपकी प्राथमिकता अध्‍यात्‍म की ओर बढ़ने लगती है।

पाएं अपनी कुंडली आधारित सटीक शनि रिपोर्ट

पंचम भाव में केतु का नकारात्‍मक प्रभाव

पांचवे भाव में केतु नकारात्‍मक स्थिति में हो, तो जातक एकांत की ओर बढ़ने लगता है और अपने परिवार एवं दोस्‍तों से दूर हो जाता है। इन्‍हें मानसिक तनाव रहता है और समय-समय पर अवसाद महसूस होता रहता है। ये बहुत रोमांचक होते हैं और इसकी वजह से इन्‍हें चोट लगने का भी खतरा रहता है।

आपकी कुंडली में भी है राजयोग? जानिए अपनी  राजयोग रिपोर्ट

केतु के पांचवे भाव में होने पर कौन सा योग बनता है

जब केतु पांचवे भाव में हो, राहु ग्‍यारहवें भाव में हो और सभी ग्रह राहु-केतु के बीच में हों, तब विषधर कालसर्प योग बनता है। इस स्थिति में जातक दूरस्‍थ स्‍थानों और विदेश की यात्रा पर जाता है जिससे उसे लाभ भी मिलता है। ये कानूनी विवादों में भी उलझे रहते हैं। इनका भाई-बहन के साथ भी विवाद रह सकता है।

करियर की हो रही है टेंशन! अभी ऑर्डर करें कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट

इन नामचीन लोगों की कुंडली के पांचवे भाव में है केतु

ऐसे कुछ नामचीन लोग हैं जिनकी कुंडली के पांचवे भाव में केतु विराजमान है:

अरुण जेटली: वह एक मशहूर राजनेता हैं जो भारत के कैबिनेट मिनिस्‍टर भी रह चुके हैं। उन्‍हें पद्म भूषण पुरस्‍कार से भी नवाज़ा गया है। उन्‍हें अपने जीवन में सभी उपलब्धियां केतु के पांचवे भाव में होने की वजह से प्राप्‍त हुई हैं। केतु ने उन्‍हें सफलता, लोकप्रियता और शोहरत दी है।

जय लललिता: केतु के पांचवे भाव में होने पर उन्‍हें अभिनय और राजनीति के क्षेत्र में खूब शोहरत हासिल हुई है। वह 14 साल से भी अधिक समय तक तमिलनाडु की मुख्‍यमंत्री रही हैं।

रोज़र मूरे: यह एक लोकप्रिय इंग्लिश कलाकार हैं और उनकी कुंडली के पांचवे भाव में भी केतु विराजमान हैं। जेम्‍स बॉन्‍ड का किरदार निभाने के बाद उन्‍हें असीम लोकप्रियता हासिल हुई थी और वो पूरी दुनिया में मशहूर हो गए।

कैटरीना कैफ: बॉलीवुड एक्‍ट्रेस कैटरीना कैफ आज फिल्‍म जगत की सबसे नामचीन और सफल अभिनेत्रियों में से एक हैं। उन्‍हें एक मॉडल और एक्‍टर के तौर पर खूब नाम और पैसा मिला है और इसका श्रेय उनकी कुंडली में पांचवे भाव में बैठे केतु को जाता है।

अब घर बैठे विशेषज्ञ पुरोहित से कराएं इच्छानुसार ऑनलाइन पूजा और पाएं उत्तम परिणाम!

अक्‍सर पूछे जाने वाले प्रश्‍न

प्रश्‍न. केतु पांचवे भाव में हो तो क्‍या होता है?

उत्तर. इससे व्‍यक्‍ति के जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

प्रश्‍न. केतु के पांचवे भाव में होने पर क्‍या करना चाहिए?

उत्तर. दान और निस्‍वार्थ भाव से सेवा करनी चाहिए।

प्रश्‍न. केतु कौन से भाव में शुभ फल देता है?

उत्तर. केतु का आठवें भाव में शुभ फल मिलता है।

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह ब्लॉग ज़रूर पसंद आया होगा। अगर ऐसा है तो आप इसे अपने अन्य शुभचिंतकों के साथ ज़रूर साझा करें। धन्यवाद!

The post इस घर में आ जाए केतु, तो प्‍यार और परिवार से कर देता है अलग, चारों तरफ अकेलापन ही दिखता है appeared first on AstroSage Blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *