Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

वक्री गुरु अगले आठ महीने इन राशियों को देंगे शुभ परिणाम, मान-सम्मान में भी होगी वृद्धि

वैदिक ज्योतिष में देवगुरु बृहस्पति को शुभ एवं लाभकारी ग्रह कहा जाता है इसलिए इनके वक्री, मार्गी, उदय या अस्त होने को एक महत्वपूर्ण घटना के रूप में देखा जाता है। यह ज्ञान, वैभव एवं मंगल कार्यों के कारक ग्रह मान गए हैं जो 01 मई 2024 से वृषभ राशि में विराजमान हैं और आने वाले साल यानी कि वर्ष 2025 तक इसी राशि में स्थित रहेंगे। इसी क्रम में, यह मिथुन राशि में प्रवेश करेंगे और संसार सहित राशियों को भी प्रभावित करेंगे। एस्ट्रोसेज के इस ब्लॉग में आपको गुरु वक्री होकर किन राशियों को करेंगे सकारात्मक रूप से प्रभावित और किन राशियों के लिए होगा गोल्डन पीरियड शुरू आदि की जानकारी प्राप्त होगी। आइए आगे बढ़ते हैं और जानते हैं किन राशियों को गुरु की वक्री अवस्था देगी शुभ परिणाम।

दुनियाभर के विद्वान ज्योतिषियों से करें फ़ोन पर बात और जानें करियर संबंधित सारी जानकारी

बृहस्पति देव कब होंगे वक्री?

ज्ञान के कारक ग्रह गुरु 09 अक्टूबर 2024 की सुबह 10 बजकर 01 मिनट पर मिथुन राशि में वक्री गति में गोचर कर जाएंगे और अगले साल यानी 04 फरवरी 2025 की दोपहर 01 बजकर 46 मिनट पर पुनः मार्गी अवस्था में आ जाएंगे। बता दें कि बृहस्पति देव की वक्री चाल कभी-कभी कुछ राशियों के लिए बेहद शुभ परिणाम लेकर आती है। चलिए नज़र डालते हैं उन लकी राशियों पर।

आज का गोचर 

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा

गुरु की वक्री चाल रहेगी लकी, इन राशियों के सुख-सौभाग्य में होगी वृद्धि  

मिथुन राशि 

मिथुन राशि के जातकों के लिए गुरु ग्रह की वक्री चाल शुभ रहेगी क्योंकि यह आपकी राशि के दसवें भाव में वक्री होंगे। इसके फलस्वरूप, यह आपको जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सकारात्मक परिणाम प्रदान करेंगे। साथ ही, इनके शुभ प्रभाव की वजह से आपको आय के नए स्रोत प्राप्त होंगे और अच्छी मात्रा में धन मिलने से आपके बैंक-बैलेंस में बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। यह अवधि आपके खर्चों को कम करवाने का काम करेगी और आपके मान-सम्मान को बढ़ाएगी। इस दौरान आप कुछ बड़े और महत्वपूर्ण फैसले लेने में सक्षम होंगे।

ऑनलाइन सॉफ्टवेयर से मुफ्त जन्म कुंडली प्राप्त करें

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए बृहस्पति महाराज का वक्री होना अनुकूल रहेगा क्योंकि यह आपकी राशि के ग्यारहवें भाव में वक्री होंगे। ऐसे में, यह आपको हर क्षेत्र में अच्छे परिणाम देने का काम करेंगे और इस दौरान आप काम में जो भी प्रयास करेंगे, उसमें आपको सफलता की प्राप्ति होगी। इस राशि के जो छात्र प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, उन्हें सफलता मिलने के योग बनेंगे। आपका मन धार्मिक कार्यों में लगेगा और साथ ही, आपके घर-परिवार का वातावरण खुशियों से भरा रहेगा। अगर आपका धन कहीं रुक गया है, तो अब वह आपको वापिस मिल सकता है। यह जातक परिवार के साथ यादगार समय बिताते हुए नज़र आएंगे।

ऑनलाइन सॉफ्टवेयर से मुफ्त जन्म कुंडली प्राप्त करें

धनु राशि 

धनु राशि का नाम भी उन राशियों में शामिल है जिनके लिए गुरु की वक्री अवस्था फलदायी रहेगी क्योंकि यह आपकी राशि के छठे भाव में वक्री हो रहे हैं। ऐसे में, इन जातकों को हर कदम पर अपने भाग्य का साथ मिलेगा जिसके चलते आपके सारे काम बिना किसी समस्या के पूरे होंगे और पारिवारिक जीवन में सुख-शांति बनी रहेगी। जिन लोगों का अपना व्यापार है, उनके लिए यह समय अच्छा रहेगा। करियर के क्षेत्र में आप प्रसिद्धि प्राप्त करेंगे और धन से जुड़े मामलों में भी सफलता प्राप्त होगी।

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह लेख ज़रूर पसंद आया होगा। अगर ऐसा है तो आप इसे अपने अन्य शुभचिंतकों के साथ ज़रूर साझा करें। धन्यवाद!

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. गुरु ग्रह की राशि कौन सी है?

उत्तर 1. राशि चक्र में धनु और मीन का स्वामित्व गुरु ग्रह को प्राप्त है।

प्रश्न 2. बृहस्पति देव कब वक्री होंगे?

उत्तर 2. गुरु ग्रह 09अक्टूबर 2024 की सुबह 10 बजकर 01 मिनट पर मिथुन राशि में वक्री हो जाएंगे।

प्रश्न 3. साल 2025 में गुरु कब मार्गी होंगे?

उत्तर 3. वर्ष 2025 में गुरु ग्रह 04 फरवरी 2024 की दोपहर 01 बजकर 46 मिनट पर मार्गी हो जाएंगे।

The post वक्री गुरु अगले आठ महीने इन राशियों को देंगे शुभ परिणाम, मान-सम्मान में भी होगी वृद्धि appeared first on AstroSage Blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *