Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

सुख, विलासिता के ग्रह के गोचर से चमकेगा इन राशियों का जीवन- प्रेम जीवन में आएगी बहार!

ज्योतिष में शुक्र ग्रह को प्रेम, वैवाहिक जीवन, विलासिता, सुख-समृद्धि का कारक ग्रह माना जाता है। ज्योतिष के जानकार मानते हैं कि जिस व्यक्ति की कुंडली में शुक्र ग्रह मजबूत स्थिति में होता है वह अपने जीवन में इन सभी क्षेत्रों में शुभ परिणाम प्राप्त करते हैं। स्वाभाविक है कि शुक्र की महत्वता काफी अधिक है। अब यही शुक्र ग्रह 7 जुलाई को कर्क राशि में गोचर करने वाला है।

आज के अपने इस खास लेख में हम इसी विषय पर बात करेंगे और जानेंगे कि सभी 12 राशियों पर शुक्र के इस अहम गोचर का क्या प्रभाव पड़ने वाला है।

जैसे कि हमने पहले भी बताया कि शुक्र ग्रह जिस भी कुंडली में प्रबल अवस्था में होते हैं ऐसे जातकों को सुख सुविधा की चीज, विलासिता से संबंधित चीज़ें प्राप्त होती है। साथ ही ऐसे जातकों का प्रेम और वैवाहिक जीवन शानदार रहता है। वहीं इसके विपरीत अगर शुक्र ग्रह कमजोर अवस्था में मौजूद हो तो ऐसे में जातकों को तमाम परेशानियां उठानी पड़ सकती है। 

ऐसी स्थिति में ज्योतिष के जानकार शुक्र ग्रह से संबंधित कुछ उपाय करने की सलाह देते हैं। क्या कुछ हैं ये उपाय जानेंगे इस लेख में आगे। सबसे पहले जान लेते हैं शुक्र का कर्क राशि में गोचर कब होने वाला है।

दुनियाभर के विद्वान ज्योतिषियों से करें कॉल/चैट पर बात और जानें अपने संतान के भविष्य से जुड़ी हर जानकारी

शुक्र का कर्क राशि में गोचर- क्या रहेगा समय? 

बात करें समय की तो शुक्र ग्रह 7 जुलाई 2024 को 4 बजकर 14 मिनट पर कर्क राशि में प्रवेश कर जाएंगे। निश्चित तौर पर इसका सभी 12 राशियों के जीवन पर प्रभाव पड़ेगा। जीवन के विभिन्न मोर्चों अर्थात प्रेम और वैवाहिक जीवन जैसे महत्वपूर्ण मोर्चे पर भी शुक्र के इस गोचर का प्रभाव पड़ने की संभावना है।

शुक्र गोचर- क्या रहेगा प्रभाव?

प्यार और रिश्ते पर प्रभाव 

शुक्र का कर्क राशि में गोचर आम तौर पर रिश्ते का गहराई से आकलन करने वाला समय साबित होता है। इस दौरान कुछ छुपे हुए राज़ आपके रिश्ते में उजागर हो सकते हैं। साथ ही छिपी हुई भावनाएं भी उभर कर सामने आएंगी जिन पर आपको ध्यान देने की आवश्यकता पड़ेगी और दूसरों से अपने मन की बात करना फायदेमंद रहेगा। जो लोग पहले से ही किसी रिश्ते में हैं उनके लिए यह समय अपने रिश्ते को मजबूत बनाने का समय साबित होगा। हालांकि कोई अतीत की बात आपके रिश्ते में परेशानी की वजह बन सकती है। जो लोग सिंगल हैं उनके जीवन में किसी साथी की दस्तक हो सकती है। 

आर्थिक मामले पर प्रभाव

शुक्र का कर्क राशि में गोचर आर्थिक मसलों को भी प्रभावित करेगा। इस दौरान आपके खर्च बढ़ सकते हैं। ऐसे में आपको धन संचित करने और फिजूलखर्ची से बचने की सलाह दी जाती है। इसके लिए आप चाहें तो एक बजट बना सकते हैं ताकि भविष्य के लिए आप अपने जीवन में आर्थिक स्थिरता हासिल कर सकें। 

करियर पर प्रभाव 

शुक्र के कर्क राशि में गोचर से कार्यस्थल पर आपको किसी नए प्रोजेक्ट में काम करने का मौका मिल सकता है। हालांकि आपके जीवन में चुनौतियां भी आएंगी। ऑफिस में सहकर्मियों या फिर बॉस के साथ आपकी कुछ गलतफहमी हो सकती है। ऐसे में विवाद को सुलझाने का प्रयत्न करें। सलाह दी जाती है कि शुक्र के इस गोचर के दौरान किसी भी तरह का कोई महत्वपूर्ण फैसला लेने से बचें और अपने भविष्य के लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें। 

शुक्र गोचर से खुलेंगे तरक्की के रास्ते 

जहां एक तरफ शुक्र के गोचर से आपके जीवन में चुनौतियां खड़ी होने की आशंका है वहीं दूसरी तरफ यह आपके जीवन में तरक्की भी लेकर आने वाला है। आप अतीत से सीख लेकर अपने रिश्ते और जीवन को बेहतर बनाने का प्रयत्न करेंगे। परिजनों का सपोर्ट मिलेगा और आपका रिश्ता मजबूत बनेगा। शुक्र गोचर की यह अवधि आपको अपना ख्याल रखने के लिए भी ध्यान केंद्रित करवाएगी। अगर आप कला, लेखन या किसी भी क्रिएटिव काम को करने में रुचि रखते हैं तो शुक्र गोचर की ये अवधि आपके लिए फायदेमंद साबित होगी। पेशेवर जीवन की बात करें तो इस दौरान करियर में बड़े परिवर्तन देखने को मिल सकते हैं। सलाह दी जाती है कि प्रोफेशनल लाइफ में मिल रहे अवसरों का लाभ उठाएं और अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए आगे बढ़ें।

आज का गोचर

कमजोर शुक्र के लक्षण और उपाय 

शुक्र ग्रह का संबंध महिलाओं से माना जाता है यह बेहद ही प्रभावशाली ग्रह है साथ ही इस प्रेम और सुंदरता का कारक भी माना जाता है। अंक शास्त्र में मूलांक 6 का स्वामी भी शुक्र ग्रह को कहा गया है।  ज्योतिष के जानकार मानते हैं कि जब किसी व्यक्ति की कुंडली में शुक्र कमजोर अवस्था में होता है तो यह तमाम तरह के लक्षण देने लगता है जैसे कि, 

चेहरे पर अचानक से मुहाँसे निकलने लगते हैं, चेहरे का इन्फेक्शन शुरू हो जाता है, अचानक से बाल टूटने या झड़ने लग जाते हैं, बालों में कमजोरी और डेंड्रफ की समस्या होने लगती है, त्वचा पर दाने और खुजली होने लगती है, उम्र से पहले बाल सफेद होने लगते हैं और त्वचा का रंग काला पड़ने लगता है। अगर इस तरह के लक्षण नजर आते हैं तो मुमकिन है कि व्यक्ति का शुक्र कमजोर है। ऐसी स्थिति में ज्योतिष के जानकार शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय बताते हैं। क्या कुछ हैं ये उपाय आइये जान लेते हैं: 

शुक्र को मजबूत करने के लिए ज्यादा चमकीले रंग की वस्तु धारण करें और चमकीली चीजों को इस्तेमाल करें। नियमित रूप से शुक्र से संबंधित मंत्रों का जाप करें। शुक्रवार के दिन सफेद रंग के कपड़े पहनें और सफेद रंग की वस्तुओं का दान करें। शुक्रवार के दिन अपने शरीर पर चंदन का लेप लगाएँ। अपने घर या फिर कार्य स्थल में शुक्र ग्रह स्थापित करें और नियमित रूप से इसकी पूजा करें। जिन व्यक्तियों का शुक्र कमजोर होता है उन्हें छह या फिर 13 मुखी रुद्राक्ष धारण करना भी शुभ साबित होता है। इसके अलावा आप चाहें तो चांदी भी धारण कर सकते हैं। हालांकि कोई भी रत्न या रुद्राक्ष धारण करने से पहले हमेशा विद्वान ज्योतिषियों से परामर्श अवश्य ले लें। इसके अलावा शुक्र ग्रह को मजबूत करने के लिए सफेद गाय को चारा खिलाएं।

जड़ी कैलकुलेटर – जन्म-कुंडली आधारित जड़ी सुझाव

शुक्र का कर्क राशि में गोचर- 12 राशियों पर प्रभाव और उपाय 

मेष राशि 

मेष राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे और सप्तम भाव का स्वामी है और आपके चौथे घर में गोचर ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

वृषभ राशि 

वृषभ राशि के जातकों के लिए शुक्र पहले और छठे घर का स्वामी है और आपके तीसरे घर में गोचर करने ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

मिथुन राशि 

मिथुन राशि के जातकों के लिए शुक्र पंचम और बारहवें घर का स्वामी है और आपके दूसरे घर में गोचर ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

कर्क राशि 

कर्क राशि के जातकों के लिए शुक्र चतुर्थ और ग्यारहवें घर का स्वामी है और आपके पहले घर में गोचर ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

सिंह राशि 

सिंह राशि के जातकों के लिए शुक्र तीसरे और दसवें घर का स्वामी है और आपके बारहवें घर में गोचर ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

कन्या राशि 

कन्या राशि के जातकों के लिए शुक्र दूसरे और नवम भाव का स्वामी है और आपके ग्यारहवें घर में गोचर …(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

तुला राशि 

तुला राशि के जातकों के लिए शुक्र पहले और आठवें घर का स्वामी है और आपके दसवें घर में गोचर ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

वृश्चिक राशि 

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए शुक्र सातवें और बारहवें घर का स्वामी है और आपके नवम भाव में गोचर ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

धनु राशि 

धनु राशि के जातकों के लिए शुक्र छठे और ग्यारहवें भाव का स्वामी है और आपके आठवें भाव में गोचर ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

मकर राशि 

मकर राशि के जातकों के लिए शुक्र पंचम और दशम भाव का स्वामी है और आपके सातवें घर में गोचर ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

कुंभ राशि 

कुंभ राशि के जातकों के लिए शुक्र चौथे और नवम भाव का स्वामी है और आपके छठे घर में गोचर करने ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

मीन राशि

मीन राशि के जातकों के लिए शुक्र तीसरे और आठवें घर का स्वामी है और आपके पंचम भाव में गोचर ….(विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें)

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह ब्लॉग ज़रूर पसंद आया होगा। अगर ऐसा है तो आप इसे अपने अन्य शुभचिंतकों के साथ ज़रूर साझा करें। धन्यवाद!

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न 

प्रश्न 1: शुक्र का कर्क राशि में गोचर कब होगा?

उत्तर: 7 जुलाई 2024 को शुक्र का कर्क राशि में गोचर हो जाएगा।

प्रश्न 2: शुक्र को मजबूत करने के लिए कौन सा रुद्राक्ष धारण करना चाहिए? 

उत्तर: शुक्र को मजबूत करने के लिए 13 मुखी रुद्राक्ष हमेशा सहायक होता है।  

प्रश्न 3: शुक्र किसका कारक है?

उत्तर: शुक्र ग्रह को प्रेम, वैवाहिक जीवन, सुंदरता, सुख समृद्धि का कारक ग्रह माना गया है।

The post सुख, विलासिता के ग्रह के गोचर से चमकेगा इन राशियों का जीवन- प्रेम जीवन में आएगी बहार! appeared first on AstroSage Blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *