Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

12 साल बाद मित्र ग्रह सूर्य और गुरु की कुंभ राशि में अनोखी युति

आज 22 फरवरी को 12 साल बाद दो मैत्री ग्रहों यानी ग्रहों के राजा सूर्य और बुद्धि व विवेक के कारक ग्रह बृहस्पति की कुंभ राशि में अनोखी युति हो रही है। सूर्य 13 फरवरी को कुंभ राशि में गोचर कर चुके हैं तथा बृहस्पति ग्रह सूर्य के नज़दीक आने के कारण दो दिन पहले अर्थात 19 फरवरी को अस्त हो गए हैं। गुरु के अस्त होने के कारण अब अगले एक महीने तक किसी भी प्रकार के मांगलिक कार्य नहीं किए जा सकते हैं। कुम्भ राशि में गुरु और सूर्य की यह युति 15 मार्च तक रहने वाली है जब सूर्य कुंभ राशि को छोड़ मीन राशि में गोचर करेंगे। इस युति के होने से ठंड में कमी देखने को मिलेगी, वसंत ऋतु का आगमन होना शुरू हो जाएगा और प्रकृति अपने नए स्वरूप में आकर हमें खुशी प्रदान करेगी।

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्य का शनि की राशि में प्रवेश बेहद शुभ माना जाता है। 13 फरवरी को सूर्य मकर राशि छोड़ कर कुंभ राशि जो कि मूल त्रिकोण की राशि होती है, में प्रवेश कर चुके हैं। देव गुरु बृहस्पति की सूर्य के साथ यह युति लगभग एक माह तक रहने वाली है। गुरु और सूर्य ग्रह में आपसी मित्रता होने के कारण इनका एक साथ कुंभ राशि में होना, कुंभ राशि के जातकों के लिए शुभ परिणाम देने वाला साबित होगा। इस समय में कुंभ राशि के जातकों द्वारा शुरू किए गए सभी कार्यों में उन्हें सफलता की प्राप्ति होगी।

भविष्य से जुड़ी किसी भी समस्या का समाधान मिलेगा विद्वान ज्योतिषियों से बात करके

बृहस्पति ग्रह मूलतः ज्ञान, शिक्षा, धार्मिक कार्य एवं दान-पुण्य के कारक माने जाते हैं। ऐसे में उनका अस्त होना बहुत शुभ नहीं माना जाता है। जब भी कोई ग्रह सूर्य के नज़दीक आते हैं तो वह अस्त अवस्था में चले जाते हैं।

 इन राशियों पर रहेगा शुभ प्रभाव

मेष राशि – गुरु सूर्य की युति मेष राशि के जातकों के लिए आर्थिक मामलों में विशेष रूप से लाभदायी रहेगी। आपका भाग्य और रचनात्मक कार्यों में आपकी रुचि आपके आर्थिक पक्ष को मजबूती प्रदान करेगी। इस समय में शुरू किए हुए नए क्रियाकलाप आपको तरक्की देने वाले होंगे।

मिथुन राशि – मिथुन राशि के जो जातक गुरु सूर्य की इस युति के समय में नई व्यावसायिक साझेदारी शुरू करने के इच्छुक हैं उनके लिए यह समय अच्छा रहने वाला है। इस दौरान बहुत से नए अवसर आपके सामने आएंगे। यदि आप समझदारी से काम करेंगे तो यह आपको नई ऊंचाईयां देने वाला समय है।

सिंह राशि – सिंह राशि के वह सभी जातक जो अपने रोमांटिक रिश्ते को शादी में बदलने की कोशिश कर रहे हैं, उनके लिए यह समय सर्वोत्तम है। आप अपने पार्टनर का बेहिचक प्रपोज कर अपने रिश्ते का एक नए बंधन में बांधने के लिए बात आगे बढ़ा सकते हैं।

धनु राशि- धनु राशि के जातकों के लिए गुरु सूर्य का युति भाग्य और व्यक्तित्व आपको नए साहस और आत्मविश्वास से भरने वाली है। इस समय आप कुछ भी हासिल करने में सक्षम होंगे। खुद पर भरोसा आपको आपके लक्ष्य तक पहुंचने में मदद करेगा। यह समय आपको बड़े काम करने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा

इन राशिवालों का रहना होगा सावधान

वृषभ राशि – गुरु और सूर्य की कुंभ राशि में बनी यह युति आपके लिए कार्यस्थल पर अचानक कुछ समस्याएं उत्पन्न कर सकती है। यह समय आपको क्रोधी बना सकता है जो आपकी छवि खराब कर आपके लिए कार्यक्षेत्र में बाधाएं उत्पन्न कर सकता है।

कर्क राशि – एक माह की इस युति अवधि में आपको अचानक आर्थिक नुकसान या संकट का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए जितना हो सके कृपया अपने वित्त के प्रति सचेत रहें। फिजूल खर्ची से बचें, वर्ना आपको मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

कन्या राशि – कन्या राशि के जातकों के लिए यह समय स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने वाला है। आपके और आपकी माता के लिए कुछ स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं इसलिए कृपया लक्षणों को नज़रअंदाज़ न करें। कोई भी परेशानी महसूस होने पर डॉक्टरी सलाह अवश्य लें। खान-पान का ध्यान रखना भी अति आवश्यक है।

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

इसी आशा के साथ कि, आपको यह लेख भी पसंद आया होगा एस्ट्रोसेज के साथ बने रहने के लिए हम आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करते हैं।

The post 12 साल बाद मित्र ग्रह सूर्य और गुरु की कुंभ राशि में अनोखी युति appeared first on AstroSage Blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *