Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

27 फरवरी, 2022 को शुक्र का मकर राशि में गोचर: राशि अनुसार प्रभाव और उपाय

वैदिक ज्योतिष के अनुसार शुक्र ग्रह को खुशियों और प्रेम का ग्रह माना जाता है। शुक्र एक शुभ ग्रह है जिसके अनुकूल परिणाम से व्यक्ति को वैवाहिक सुखm भौतिक सुखों से लिप्त जीवन, सुंदरता, कला, भोग, रोमांस, प्रतिभा, वासना, आदि का आशीर्वाद प्राप्त होता है। जहां मीन शुक्र की उच्च राशि होती है वहीं कन्या में शुक्र को नीच का माना जाता है। इसके अलावा तुला राशि और वृषभ राशि का शासक स्वामी भी शुक्र होता है।

पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र, पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र और भरणी नक्षत्र शुक्र ग्रह के अंतर्गत आते हैं। शुक्र को एक राशि से दूसरी राशि में जाने में तकरीबन 23 दिनों का समय लगता है। जहां बुध और शनि के साथ शुक्र के रिश्ते मित्रवत होते हैं वही सूर्य और चंद्रमा इसके दुश्मन ग्रह माने गए हैं।

भविष्य से जुड़ी किसी भी समस्या का समाधान मिलेगा विद्वान ज्योतिषियों से बात करके

जिन व्यक्तियों की जन्म कुंडली में शुक्र ग्रह अनुकूल स्थिति में होता है उन्हें सुंदर और शारीरिक रूप से यह ग्रह आकर्षक बनाता है। ऐसे लोग मृदुभाषी होते हैं और विपरीत लिंग के लोगों को आसानी से अपनी तरफ आकर्षित कर लेते हैं। इसके अलावा जिन लोगों की कुंडली में शुक्र ग्रह अनुकूल स्थिति में होता है ऐसे लोग स्वाभाव में दयालु प्रवृत्ति के भी होते हैं। 

हालांकि जिन लोगों की कुंडली में शुक्र ग्रह प्रतिकूल स्थान में मौजूद होता है ऐसे लोगों को प्रेम और पारिवारिक जीवन में तमाम परेशानियां उठानी पड़ती है। ऐसे व्यक्तियों के जीवन में रोमांस की कमी होती है। साथ ही उन्हें अपने प्रेम जीवन में लगातार उतार-चढ़ाव की परिस्थिति से गुजरना पड़ता है। साथ ही वे अपने वैवाहिक जीवन का पूरी तरह से आनंद भी नहीं उठा पाते हैं।

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा

शुक्र मकर राशि में गोचर: 27 फरवरी 2022

सुख, सुविधा और विलासिताओं की चीजों का अधिपति और सप्ताह के पांचवें दिन यानी शुक्रवार से संबंधित शुक्र ग्रह 27 फरवरी 2022 रविवार के दिन मकर राशि में गोचर कर जाएगा। यह गोचर सुबह 9:00 बज कर 53 मिनट पर होगा। इस गोचर का विभिन्न राशियों के जीवन पर प्रभाव पड़ेगा।

स्वाभाविक सी बात है शुक्र के गोचर का सभी 12 राशियों के जातकों पर कुछ ना कुछ अनुकूल और प्रतिकूल प्रभाव अवश्य देखने को मिलेगा। आपकी राशि को यह गोचर कैसे प्रभावित करेगा जानने के लिए पढ़िए राशि अनुसार अपना गोचर फल।

नये साल में करियर की कोई भी दुविधा कॉग्निएस्ट्रो रिपोर्ट से करें दूर

शुक्र मकर राशि में गोचर: गोचरफल और प्रभाव 

मेष राशि 

मेष राशि के लिए शुक्र दूसरे और सातवें भाव का स्वामी है और करियर, नाम और प्रसिद्धि के दसवें भाव में गोचर कर रहा है। शुक्र के इस गोचर के दौरान ….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

वृषभ राशि 

वृषभ राशि के लिए शुक्र पहले और छठे भाव का स्वामी है और आध्यात्मिकता, भाग्य और अंतरराष्ट्रीय यात्राओं के नवम भाव में गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

मिथुन राशि 

मिथुन राशि के लिए शुक्र बारहवें और पांचवें भाव का स्वामी है और दीर्घायु, अचानक हानि/लाभ, मनोगत और विरासत के आठवें भाव में गोचर कर रहा है। इस गोचर की अवधि के दौरान….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

कर्क राशि 

कर्क राशि के लिए शुक्र चतुर्थ और ग्यारहवें भाव का स्वामी है और विवाह और साझेदारी के सप्तम भाव में गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान ….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

सिंह राशि 

सिंह राशि के लिए शुक्र तीसरे और दसवें भाव का स्वामी है और छठे भाव में शत्रु, ऋण, रोगों के भाव में गोचर कर रहा है। व्यावसायिक रूप से, इस अवधि में आपको ….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

कन्या राशि 

कन्या राशि के लिए शुक्र दूसरे और नवम भाव का स्वामी है और प्रेम, रोमांस और संतान के पंचम भाव में गोचर कर रहा है। शुक्र का यह गोचर ….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

ऑनलाइन सॉफ्टवेयर से मुफ्त जन्म कुंडली प्राप्त करें

तुला राशि 

तुला चंद्र राशि के लिए शुक्र पहले और आठवें भाव का स्वामी है और सुख-समृद्धि के चौथे भाव में गोचर कर रहा है। इस गोचर अवधि के दौरान….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

वृश्चिक राशि 

वृश्चिक राशि के लिए शुक्र बारहवें और सातवें भाव का स्वामी है और साहस, वीरता और छोटी यात्राओं के तीसरे भाव में गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

धनु राशि 

धनु राशि के लिए शुक्र छठे और ग्यारहवें भाव का स्वामी है और धन संचय, परिवार और वाणी के दूसरे भाव में गोचर कर रहा है। इस गोचर अवधि के दौरान….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

मकर राशि 

मकर राशि के लिए शुक्र पंचम और दसवें भाव का स्वामी है और स्वयं, व्यक्तित्व और चरित्र के लग्न भाव में गोचर कर रहा है। शुक्र ग्रह का यह गोचर ….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

कुम्भ राशि 

कुम्भ राशि के लिए शुक्र चतुर्थ और नवम भाव का स्वामी है और व्यय, मोक्ष, अस्पताल में भर्ती और गुप्त व्यवहार के बारहवें भाव में गोचर कर रहा है। शुक्र के इस गोचर के दौरान ….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

मीन राशि 

मीन राशि के लिए शुक्र तीसरे और आठवें भाव का स्वामी है और लाभ और इच्छा के 11वें भाव में गोचर कर रहा है। मीन राशि के लिए शुक्र का यह गोचर ….(विस्तार से पढ़ें गोचरफल और उपाय)

सभी ज्योतिषीय समाधानों के लिए क्लिक करें: एस्ट्रोसेज ऑनलाइन शॉपिंग स्टोर

इसी आशा के साथ कि, आपको यह लेख भी पसंद आया होगा एस्ट्रोसेज के साथ बने रहने के लिए हम आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करते हैं।

The post 27 फरवरी, 2022 को शुक्र का मकर राशि में गोचर: राशि अनुसार प्रभाव और उपाय appeared first on AstroSage Blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *