Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

Amalaki Ekadashi Upay : धन-संपत्ति की प्राप्ति के लिए आमलकी एकादशी के दिन जरूर करें ये उपाय

हिंदू धर्म में एकादशी का बहुत महत्व है. हर महीने में 2 बार एकादशी का व्रत रखा जाता है. हिन्दू पंचांग के अनुसार आमलकी एकादशी का व्रत फाल्गुन मास (Amalaki Ekadashi) के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को रखा जाता है. एकादशी व्रत को विशेष माना जाता है. आमलकी एकादशी को आंवला एकादशी या आमली ग्यारस के नाम से भी जाना जाता है. इस साल (Amalaki Ekadashi Upay) आमलकी एकादशी 14 मार्च 2022 सोमवार को है. इस दिन आप कुछ खास उपाय करके भगवान विष्णु को प्रसन्न कर सकते हैं. ऐसा करने से भगवान विष्णु (Lord Vishnu) आपकी सभी मनोकामना को पूरा करेंगे. इस दिन आप कौन से उपाय कर सकते हैं आइए जानें.

आमलकी एकादशी के दिन जरूर करें ये उपाय

आमलकी एकादशी के दिन भगवान विष्णु और आंवले के वृक्ष की विशेष रूप से पूजा की जाती है. इस दिन घर में आंवले का वृक्ष लगाना बहुत ही शुभ माना जाता है. ऐसे करने से कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलती है और धन-संपत्ति की प्राप्ति होती है.

इस दिन 21 ताजा पीले फूल की माला बनाकर भगवान विष्णु को अर्पित करें. इस दिन भगवान को खोए से बनी मिठाई का भोग लगाएं. इससे भगवान प्रसन्न होते और जीवन में सफलता प्राप्त होती है.

आमलकी एकादशी के दिन आंवले का बहुत महत्व होता है. इस दिन भगवान विष्णु को आंवले का फल अर्पित करें. साथ ही विधि-विधान से पूजा करें. इससे भगवान आपकी  सभी मनोकामना को पूरा करेंगे.

धन-संपत्ति की प्राप्ति के लिए एकादशी के दिन सुबह स्नान के बाद विधि-विधान से भगवान विष्णु की पूजा करें. इसके साथ ही एकाक्षी नारियल अर्पित करें. पूजा के बाद इस नारियल को पीले कपड़े में बांधकर अपने पास रख लें.

आमलकी एकादशी के दिन आंवले या आंवले के पेड़ को छूकर प्रणाम करें. इससे कार्य में दोगुनी सफलता मिलेगी.

कार्यक्षेत्र में अगर आपको किसी भी तरह की समस्या आ रही है, तो इस दिन आंवले के वृक्ष में जल चढ़ाना चाहिए. इसके बाद इसकी मिट्टी को माथे पर लगाना चाहिए.

अगर आप पति-पत्नी के संबंध में किसी तरह की खटास है या आप अपने जीवनसाथी की कोई इच्छा पूरी करना चाह रहें हैं तो आंवले के वृक्ष के तने पर सात बार सूत का धागा लपेटें. इसके बाद घी का दीपक जलाएं.

 

(यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

 

ये भी पढ़ें – इन राशि के लोगों को लाइफ में बार-बार होता है प्यार, कहीं आप भी तो इनमें से नहीं

ये भी पढ़ें – Meen Sankranti 2022 : 15 मार्च को है मीन संक्रान्ति, इसके साथ ही एक माह तक बंद हो जाएंगे शुभ काम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *