Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

Astro ideas: वास्तुशास्त्र से जुड़े इन उपायों को अपनाकर पितरों को किया जा सकता है खुश

घर को व्यवस्थित करने के लिए वास्तुशास्त्र ( Vastu shastra ) में कुछ नियम बनाए गए हैं और इनकी अनदेखी जीवन में कई तरह की कठिनाईयों का कारण बन सकती है. वैसे अगर वास्तुशास्त्र ( Vastu tips ) की मदद ली जाए, तो पितरों को भी प्रसन्न किया जा सकता है. अगर व्यक्ति पितृ दोष ( pitar dosh ) से जूझ रहा हो, तो उसे आर्थिक ही नहीं शारीरिक समस्याओं को भी झेलना पड़ता है. कहते हैं कि पितृ दोष के कारण घर के मुखिया के अलावा परिवार के अन्य सदस्यों को बीमारियां अपनी चपेट में ले लेती हैं और ये लंबे समय तक प्रभावित करती है. वैसे पितरों को खुश करने के लिए उन्हें भोज एवं अन्य तरीकों अपनाया जा सकता, लेकिन वास्तु की मदद से भी पितरो को प्रसन्न किया जा सकता है.

हम आपको आज वास्तु के जरिए पितरों को प्रसन्न करने से जुड़े टिप्स बताएंगे. साथ ये भी बताएंगे कि वास्तु से जुड़ी कौन सी गलतियां पितरों को नाराज कर सकती हैं. इन टिप्स को अपनाकर आप अपने जीवन में सुख एवं समृद्धि भरा माहौल बना सकते हैं.

यहां न लगाएं पितरों की तस्वीर

अक्सर लोग पितरों की तस्वीर को ऐसी जगह लगा देते हैं, जो वास्तु दोष का कारण बन जाती है या फिर ये गलती पितरों को नाराज भी कर देती है. वास्तु के मुताबिक पितरों की तस्वीर को कभी भी बेडरूम में नहीं लगाना चाहिए. इतना हीं नहीं पितरों की तस्वीर या मूर्तियों को मंदिर में लगाने की भूल भी बिल्कुल नहीं करनी चाहिए. कहते हैं कि इससे घर में कलह का माहौल बनता है और समसम्याएं बनी रहती हैं.

पितृ पक्ष में ध्यान देने वाली बातें

वास्तु में पितृ पक्ष में ध्यान देने के लिए कई अहम बातों का उल्लेख किया गया है. वास्तु के मुताबिक पितृ पक्ष के दौरान साफ-सफाई का खास ध्यान रखना चाहिए. अगर घर में कहीं पर कूड़ा-कबाड़ मौजूद है, तो उसे इस दौरान फेंक देना ही अच्छा रहता है. इतना ही नहीं, खाना खाने वाली जगह से भी एक अहम बात जुड़ी हुई है. जहां आप खाना खाने बैठे हैं, उसे खाने के बाद जरूर साफ कर दें. ऐसा करने से पितरों को प्रसन्न किया जा सकता है.

जल दें

पितरों को प्रसन्न करने के लिए रोजाना उन्हें जल देने की आदत बनाएं. सुबह उठते ही स्नान करें और भोजन ग्रहण करने से पूर्व पितरों को जल चढ़ाएं. हमेशा घर के मुख्य द्वार पर खड़े होकर ही पितरों को जल चढ़ाएं और ध्यान रहे कि ऐसा करते समय घर के मुख्य द्वार के आसपास साफ-सफाई होनी चाहिए. इतना ही नहीं शाम के समय घर के मुख्य द्वार पर एक दीपक भी जलाएं. कहते हैं कि इन तरीकों से पितरों की कृपा हमेशा बनी रहती है.

ये भी पढ़ें

दिखावे से दूर रहते हैं इन तीन राशियों के लोग, न गलत कहते हैं, न सुनना पसंद करते हैं

20 फरवरी के बाद गुरु होंगे अस्त, करीब डेढ़ माह के लिए शादियों पर लग जाएगा विराम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *