Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

Chanakya Niti: जीवन में सफलता दिलाती हैं आचार्य चाणक्य की ये बातें, जानिए क्या हैं ?

Chanakya Niti in Hindi: आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya)  और उनकी नीतियों के बारे में जितना भी कहा जाए हम ही होता है. आचार्य के द्वारा कही गई हर एक बात आज के समय में पत्थर की लकीर साबित हो रही है. चाणक्य ने अपनी नीति (Acharya Chanakya Niti) में राजनीति से लेकर पति-पत्नी के संबंध आदि के बारे में उल्लेख किया था. आचार्य चाणक्य  के अनुसार सफलता पाना आसान काम नहीं होता है. अगर आप जीवन में सफलता पाना चाहते हैं तो इसके लिए कठोर परिश्रम और त्याग करना पड़ता है, तब जाकर सफलता नसीब होती है. इतना ही नहीं आचार्य चाणक्य (Chanakya Gyan) के अनुसार जीवन में हर व्यक्ति सफलता पाने की चाहता रखता है लेकिन सफलता पाने की ये इच्छा कुछ ही लोगों की पूर्ण हो पाती है.

ऐसे में आइए जानते हैं आचार्य चाणक्य के अनुसार सफलता पाने के लिए व्यक्ति को किन अहम बातों का ध्यान हमेशा रखना चाहिए-

1-अनुशासन (Dicipline)

चाणक्य नीति में इस बात का मुख्य रूप से उल्लेख किया गया है  कि अगर आप जीवन में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं, तो सबसे पहले हमको अनुशासित बनना चाहिए. जो भी व्यक्ति कठोर अनुशासन का पालन करता है, जिसको समय की अहम कीमत का पता होता है.उनकी अनुशासन से ही कार्यों को समय पर पूर्ण करने की शक्ति विकसित होती है. यही कारण है कि अनुशासन की भावना अपनाने पर हर किसी को जोर देना चाहिए.

2-ज्ञान (Knowledge)

चाणक्य नीति के अनुसार सफलता पाने में  ज्ञान सबसे अहम भूमिका निभाता है. जो भी व्यक्ति ज्ञान के मामले में कमजोर होता है, वो असानी से सफलना नहीं पा पाता है और  उसको संघर्ष करना पड़ता है, जबकि जो लोग ज्ञान प्राप्त करने के लिए सदैव तैयार रहते हैं, वो बहुत ही आसानी से सफलता का स्वाद चखते हैं.यही कारण है कि ऐसे लोगों पर धन की देवी लक्ष्मी जी की भी कृपा बनी रहती है.

3- परिश्रम (Hard work)

चाणक्य नीति में बताया गया है कि सफलता में परिश्रम का भी एक विशेष योगदान होता है. बिना परिश्रम के सफलता का मिल जाना संभव नहीं होता है. जो भी व्यक्ति परिश्रम करने से घबराते हैं उनके नसीब में सफलता का सुख नहीं होता है. क्योंकि  परिश्रम ना करने के कोई दूसरा तरीका भी नहीं होता है. ऐसे में अगर आप सफलता को पाना चाहते हैं तो परिश्रम में घबराएं नहीं और आलस छोड़कर इसमें जुट जाएं, इससे आपको सफलता जरूर मिलेगी और मां लक्ष्मी भी खुश रहेंगी.

यह भी पढ़ें-Surya Arghya Niyam: कब और कैसे दें सूर्य देव को अर्घ्य? मां लक्ष्मी करेंगी आपके घर में वास

Gupt Navratri 2022: कब से शुरू है गुप्त नवरात्रि? जानिए क्या है इसका महत्व और पूजा विधि…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *