Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

Mirror vastu ideas: घर में शीशा लगाने से भी जुड़े हैं कई वास्तु नियम, जिंदगी पर डालते हैं असर !

हर व्यक्ति कहीं न कहीं एक हैप्पी और स्टेबल लाइफ की चाहत रखता है. वह कोशिश करता है कि उसके जीवन में किसी भी तरह की परेशानियां न आए और इसके लिए ज्यादातर लोग कड़ी मेहनत और लगन से कोशिशों में जुटे रहते हैं. लेकिन ऐसा भी देखा गया है कि कड़ी मेहनत और लगन के बावजूद भी लोगों को समस्याओं का लगातार सामना करना पड़ता है. इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से एक वास्तु दोष (Vastu dosh) भी है. इसकी वजह से प्रभावित व्यक्ति को आर्थिक (Financial problems) और शारीरिक दोनों तंगियों को झेलना पड़ जाता है. परिवार के मुखिया समेत अन्य सदस्यों को हेल्थ ईशूज होने लगते हैं.

दरअसल, घर में हर चीज या कमरों के लिए वास्तु नियम बनाए गए हैं और इनकी अनदेखी वास्तु दोष का कारण बन जाती है. इन चीजों में घर में मौजूद शीशा भी शामिल है, जिसे भी व्यवस्थित या लगाने के लिए वास्तु में नियम निर्धारित किए गए हैं. जानें घर में किस दिशा में शीशा लगाना शुभ माना जाता है.

शीशे से जुड़े वास्तु नियम

1. कहते हैं कि बेडरूम में शीशे का लगाना अच्छा नहीं माना जाा है. अगर शीशे के अंदर रूम में रखे गए बेड का प्रतिबिंब बनता है, तो इस कारण दंपति को शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. इतना ही नहीं घर में धन की कमी भी रह सकती है. हालांकि, कई बार बेडरूम में शीशा लगाना लोगों की मजबूरी होती है, लेकिन इस कंडीशन में भी उपाय को अपनाया जा सकता है. बस जिस समय आप शीशे का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं, उस दौरान शीशे को किसी कपड़े से ढक दें.

2. अगर आपके पास घर में लॉकर है, तो कोशिश करें कि उसके सामने शीशे को लगाया जा सके. कहते हैं कि इससे घर में चल रही धन की कमी दूर होती है और मान्यता है कि ऐसा करने धन का आगमन भी बढ़ता है.

3. कहते हैं कि वास्तु के अनुसार घर में शीशे को कभी भी पश्चिम या दक्षिण दिशा पर नहीं लगाना चाहिए. ऐसा करने पर धन की हानि हो सकती है और धन की कमी भी लगातार बन रहती है. आप चाहे तो शीशे को पूर्व या उत्तर दिशा में लगा सकते हैं, क्योंकि इस दिशा में शीशे को लगाना बहुत शुभ माना जाता है. कहते हैं कि उत्तर दिशा धन के देवता कुबेर का केंद्र होती है. इस दिशा में शीशे को लगाने से घर में पॉजिटिविटी भी बनी रहती है.

4. वहीं बाथरूम में शीशे व्यवस्थित करने की बात करें, तो बता दें कि वहां भी शीशा पश्चिम दिशा में नहीं लगाना चाहिए. नेगेटिविटी को दूर करने के लिए बाथरूम में शीशे को उत्तर या पूर्व दिशा में लगाना चाहिए. इतना ही नहीं इस बात का भी खास ध्यान रखें कि शीशा दरवाजे के ठीक सामने नहीं लगा होना चाहिए.

5. वास्तु के मुताबिक घर में लगा शीशा हमेशा आयताकार या वर्गाकार होना चाहिए. कभी-कभी लोग घर में गोल आकार वाले शीशे भी लगा लेते हैं और इस सिचुएशन में उन्हें समस्याएं झेलनी पड़ जाती है. वहीं ड्रेसिंग रूम में शीशे को लगाना है, तो उसकी हाइट जमीन से 5 फीट ऊपर होनी चाहिए.

ये भी पढ़ें

वास्तु दोष के कारण रिलेशनशिप पर भी पड़ता है बुरा असर! ये टिप्स आएंगे आपके काम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *