Admin+9759399575 ; Call आचार्य
शादी - विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, काल सर्प दोष , मार्कण्डेय पूजा , गुरु चांडाल पूजा, पितृ दोष निवारण - पूजा , महाम्रत्युन्जय , गृह शांति , वास्तु दोष

Gupt Navratri 2024: गुप्त नवरात्र के दूसरे दिन की जाती है देवी तारा की पूजा, जानिए कहां करती हैं वास, क्या है महत्व

मां तारा देवी को श्मशान की देवी कहा जाता है। बौद्ध धर्म में भी मां तारा की पूजा-अर्चना को बहुत महत्व दिया जाता है। तंत्र विद्या के साधक देवी तारा की पूजा करते हैं। सेन वंश के राजा को सबसे पहले देवी तारा के दर्शन हुए थे। उन्होंने देवी के मंदिर का निर्माण करवाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *